मानसिक रूप से बीमार आदमी का वीडियो सांप्रदायिक दावों के साथ किया जा रहा है शेयर

भीलवाड़ा पुलिस ने घटना के पीछे किसी भी तरह का सांप्रदायिक कारण होने से साफ़ इनकार किया है

राजस्थान में एक बूढ़े व्यक्ति की भीड़ द्वारा पिटाई का एक वीडियो दो झूठे दावों के साथ वायरल हो रहा है । दावा किया जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं द्वारा सिख समुदाय के एक व्यक्ति को पीटा गया है । साथ ही एक और ग़लत दावा किया जा रहा है कि मुसलमानों ने भारत माता की जय बोलने पर एक बूढ़े व्यक्ति को पीटा है ।

2 मिनट 20 सेकंड के लंबे वीडियो में, एक व्यक्ति बूढ़े आदमी को "चौकीदार चोर है, मैं भी चौकीदार हूं, भारत माता की जय" चिल्लाते हुए सुन सकता है, जिसके बाद कुछ लोग उसे घेर लेते हैं और पिटाई करते हैं ।



आर्काइव्ड वर्शन के लिए यहां देखें ।



अर्काइव के लिए यहां देखें ।



अर्काइव के लिए यहां देखें ।

फ़ैक्ट चेक

हम यह पता लगाने में सक्षम थे कि वीडियो राजस्थान के भीलवाड़ा का है । स्थानीय पुलिस ने बूम को बताया कि इस घटना में कोई राजनीतिक या साम्प्रदायक कोण नहीं था और इसके लिए पांच लोगों को गिरफ़्तार किया गया था ।

वीडियो में ठीक 5 सेकंड पर एक कार का नंबर प्लेट देखा जा सकता है । नंबर प्लेट में लिखा है, 'RJ27CH0990' लिखा हुई दिखाई दे रहा है, जिससे पता चलता है कि वीडियो राजस्थान का है ।

( वीडियो में राजस्थान राज्य पंजीकरण के साथ वाहन देखा जा सकता है )

हमने पाया कि अकाली दल के विधायक मनजिंदर एस सिरसा ने वीडियो के बारे में जानकारी के साथ एक ट्वीट का जवाब दिया ।



आर्काइव्ड वर्शन देखने के लिए यहां क्लिक करें ।

एक अन्य ट्विटर यूज़र ने भी वायरल वीडियो का दूसरा भाग पोस्ट किया, जिसमें दावा किया गया है कि वीडियो में दिखाया गया है कि शख़्स के साथ मारपीट के बाद क्या हुआ ।



आर्काइव्ड वर्शन के लिए यहां देखें

बूम ने भीलवाड़ा पुलिस से संपर्क किया, जिसने पुष्टि की कि यह घटना 15 अक्टूबर, 2019 को आजाद चौक पर हुई थी। उन्होंने आगे बताया कि जिस पीड़ित पर हमला किया गया, उनका नाम होतचंद सिंधी है और उनकी उम्र 55 वर्ष है ।

पुलिस ने कहा कि सिंधी पर पांच आरोपियों द्वारा हमला किया गया था, जिन्हें जांच के बाद गिरफ़्तार किया गया था । भीलवाड़ा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश मीणा ने कहा कि सिंधी का मानसिक स्वास्थ्य ठीक नहीं पाया गया था ।

भीलवाड़ा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश मीणा ने कहा कि पीड़ित उसी चौक पर एक ठेला (माल का स्टाल) लगाता था और पहले भी उसकी बाजार में अन्य व्यापारियों के साथ बहस हुई थी ।

( बूम ने घटना पर भीलवाड़ा पुलिस का बयान पाया )

बूम ने घटना पर भीलवाड़ा पुलिस का बयान पाया, जिसमें कहा गया है कि सिंधी पहले भी अपनी पत्नी की हत्या के सिलसिले में जेल गया था ।

दावा 1: बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा सिख आदमी की पिटाई

भीलवाड़ा पुलिस के अनुसार, पीड़िता सिंधी है न कि सिख समुदाय से हैं ।

एडिशनल एसपी मीणा ने कहा, 'गिरफ़्तार पांचों आरोपी व्यापारी हैं और इलाके में उनकी दुकानें हैं । उनकी पहले भी सिंधी के साथ बहस कर चुकी है और उनका दावा है कि वह उनके साथ दुर्व्यवहार करता था ।”

मीणा ने कहा, "इस मामले में कोई राजनीतिक कोण नहीं है ।"

दावा 2: भारत माता की जय बोलने पर मुसलमानों ने की पिटाई

भीलवाड़ा पुलिस ने सभी दावों से इनकार किया कि पीड़ित को इसलिए पीटा गया क्योंकि वह भारत माता की जय का जाप कर रहा था । मीणा ने कहा कि पीड़ित और आरोपी एक-दूसरे को जानते थे और पहले भी उनकी आपस में बहस हो चुकी है । उन्होंने बताया कि आरोपी व्यापारी उससे नाराज़ थे क्योंकि वह अक्सर उनके साथ दुर्व्यवहार करता था । “घटना में कोई सांप्रदायिक कोण नहीं है । भारत माता की जय नहीं बोलने पर पीड़ित को पीटने की बात ग़लत है ।''

मामले में जिन पांच आरोपियों को गिरफ़्तार किया गया है उनमें मनोज उर्फ ​​मुल्ला सिंधी (39), हेमंत नैथानी (45), भगवान दास (37), माजूर शेख (31), और इरफान (34) हैं । गिरफ़्तार आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 151 के तहत मामला दर्ज किया गया है ।

Updated On: 2019-11-18T12:12:29+05:30
Claim Review :  बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा सिख आदमी की पिटाई/ भारत माता की जय बोलने पर मुसलमानों ने की पिटाई
Claimed By :  Facebook posts
Fact Check :  FALSE
Show Full Article
Next Story