क्या वाक़ई मोरारजी देसाई ने 1962 में वलसाड में डांडिया खेला था? नहीं, वायरल दावे झूठ हैं

बूम ने पहचाना की नाचने वाले सख्स स्वर्गीय कुंवरजी लोदया और उनके भाई मुलजी लोदया हैं, जो गुजरात के व्यवसायी हैं
morarji-desai-playing-garba-featured-image

पारंपरिक गुजराती नृत्य, डांडिया रास खेलते हुए दो व्यक्तियों का एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि यह पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई का वीडियो है । यह दावा झूठ है।

2018 के बाद से जो वीडियो वायरल है, वह फ़ेसबुक और ट्विटर पर व्यापक रूप से शेयर किया गया है । इसके साथ दावा किया जा रहा है, ( हिंदी अनुवाद ) “स्वर्गीय प्रधानमंत्री श्री मोरारजी देसाई डांडिया रास खेलना। अद्भुत"




मीडिया आउटलेट्स द्वारा वीडियो को ग़लत तरीके से रिपोर्ट किया गया - दिव्य भास्कर और पत्रिका ने इसे अपलोड करते हुए दावा किया कि इसमें मोरारजी को डांडिया खेलते हुए दिखाया गया है।

दिव्य भास्कर ने अक्टूबर 2018 में गुजराती में हेडलाइन के साथ यह कहानी प्रकाशित की जिसका हिंदी अनुवाद है,"भारत के पहले गुजराती प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई का गरबा खेलने का वीडियो सामने आया है।" ( मूल टेक्स्ट: દેશના પહેલાં ગુજરાતી વડા પ્રધાન સ્વ. મોરારજી દેસાઈનો ગરબે રમતો વીડિયો સામે આવ્યો)

प्रमुख हिंदी दैनिक पत्रिका ने वीडियो को एक कहानी के साथ चलाया जिसका हेडलाइन था, “जब डांडिया का जादू छाए, प्रधानमंत्री भी खुद को नहीं रोक पाए।” 1 अक्टूबर, 2019 को यह कहानी प्रकाशित हुई और दावा किया गया कि वीडियो 1962 का है, जब देसाई केंद्रीय मंत्री थे।

patrika-ss
पत्रिका का प्रकाशित कहानी का स्क्रीनशॉट

फ़ैक्ट चेक

'मोरारजी देसाई प्लेइंग डांडिया' कीवर्ड के साथ खोज करने पर हम हमें 22 अक्टूबर, 2018 को अहमदाबाद स्थित समाचार आउटलेट देश गुजरात द्वारा प्रकाशित एक कहानी मिली ।

कहानी में बताया गया है कि,‘ मोरारजी देसाई के नाम पर वायरल हुआ रास नृत्य वीडियो नकली है; इसमें मोरारजी देसाई नहीं हैं। 'वीडियो में दिखाया गया व्यक्ति गुजरात के कच्छ इलाके का एक स्थानीय व्यवसायी "स्वर्गीय कुंवरजी नरसी लोदया" है।

Late_Shri_Kunvarji_Narshi_Lodaya_Patel_
कुंवरजी लोदया की एक प्रतिमा। स्रोत विकिपीडिया

बूम ने इसके बाद कुंवरजी के परिवार से संपर्क किया, जिन्होंने पुष्टि की कि वीडियो में दिखाई देने वाले शख़्स वही थे। कुंवरजी के पुत्र चंद्रकांत लोदया ने वीडियो में अपने पिता की पहचान चश्मा पहने और नेहरू टोपी पहने हुए व्यक्ति के रूप में की ।

चंद्रकांत ने कहा, “नाचने वाले दो लोग मेरे पिता कुंवरजी और उनके भाई मुलजी हैं। वीडियो 26 साल पहले मुंबई में एक शादी में रिकॉर्ड किया गया था ।” उन्होंने कहा कि वीडियो पारिवारिक व्हाट्सएप ग्रुपों में घूम रहा था, लेकिन फ़िर उनमें से एक ने इसे पिछले साल फ़ेसबुक पर अपलोड किया । “वीडियो तब वायरल हुआ जिसमें दावा किया गया कि यह मोरारजी देसाई है। कुछ महीनों के बाद मुझे केवल मोरारजी देसाई के ऊर्जावान गरबा नृत्य दिखाने का दावा करने वाले किसी व्यक्ति से वह वीडियो मिला और मैं यह देखकर हैरान रह गया कि यह वास्तव में मेरे पिता और उनके भाई नृत्य कर रहे थे |"

हमें बताया गया कि मुलजी, कुंवरजी के साथ नृत्य कर रहे व्यक्ति, स्वास्थ्य के मुद्दों के कारण हमसे बात करने के लिए उपलब्ध नहीं है।

हमने मोरारजी के पोते मधुकेश्वर देसाई से भी बात की, जिन्होंने इस बात की पुष्टि की कि वीडियो में उनके परदादा को नहीं दिखाया गया है।

मधुकेश्वर ने कहा, “वीडियो में मोरारजी नहीं है। उनकी काया और ड्रेसिंग स्टाइल सहित कई अंतर हैं। ” उन्होंने कहा, "मोरारजी अलग चश्मा पहनते थे और चूड़ीदार पहनते थे, पैंट नहीं, जैसा कि वीडियो में मौजूद व्यक्ति ने पहना है। और वीडियो में दिखाई देने वाले व्यक्ति से अलग तरीके से चलते थे।”

Claim Review :  स्वर्गीय प्रधानमंत्री श्री मोरारजी देसाई डांडिया रास खेलते हुए
Claimed By :  Facebook Pages
Fact Check :  False
Next Story