Connect with us

पाकिस्तान में एक लड़के का नाले में सेब धोने के वीडियो को भारत में दिया जा रहा है सांप्रदायिक रंग

फ़ेक न्यूज़

पाकिस्तान में एक लड़के का नाले में सेब धोने के वीडियो को भारत में दिया जा रहा है सांप्रदायिक रंग

पाकिस्तान में एक लड़के का नाले में सेब धोने वाले वीडियो को भारत में दिया जा रहा सांप्रदायिक रंग।


 
हाल ही में एक लड़के के खुले नाले में सेब धोने का वीडियो तेजी से फैल रहा है। ऐसा लगता है कि यह वीडियो पाकिस्तान से है। लेकिन भारत में इस वीडियो को सांप्रदायिक रंग दिया जा रहा है।
23-सेकंड के इस क्लिप में एक युवा लड़के को सड़क के कोने पर अपने टोकरे में सेब रखने से पहले सेब को नाले के पानी से धो रहा है।
 
20 सितंबर, 2018 को भारत में एक फेसबुक उपयोगकर्ता द्वारा यह वीडियो साझा किया गया था और तब से सोशल नेटवर्किंग साइट पर 950 से अधिक बार साझा किया गया है। इस वीडियो को 34,000 से अधिक बार देखा गया है।
 
मानव बुद्धदेव की पोस्ट यह निर्दिष्ट नहीं करती है कि वीडियो कहां से है, बल्कि वह घटना एक सांप्रदायिक रंग देते हुए, व्यंग्यात्मक ढंग से नवरात्रि के दौरान उपवास रखने वाले हिंदूओं से फल खरीदने का आग्रह करते हैं।
 

फैक्ट-चेक
 
इसी प्रकार वीडियो को अनधिकृत सार्वजनिक समूह, राष्ट्रीय स्वयं संघ (आरएसएस) द्वारा पोस्ट किया गया था और साथ ही हिंदुओं से नवरात्रि के त्यौहार के दौरान मुस्लिमों से फल न खरीदने का आग्रह किया गया था। (इस नवरात्रि कोई भी मुस्लिम लोगो से फल ना खरीदे। देख लो इनका हरामी कारोबार)

 

 

इस पोस्ट को 2,300 से ज्यादा बार शेयर किया गया है। (यहां इसका संग्रहीत संस्करण देखें) इस कहानी को लिखने के समय समूह के 83,755 सदस्य थे।
 

 
फैक्ट-चेक
हालांकि, वीडियो की एक तथ्य-जांच से पता चलता है कि वीडियो में दिखाई देने वाला लड़का पश्तो में बात कर रहा है, जो मुख्य रूप से अफगानिस्तान और पाकिस्तान में बोली जाती है।
 
वीडियो के प्रमुख फ्रेमों में से एक की एक रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है कि वीडियो इस वर्ष अगस्त के तीसरे सप्ताह के आसपास इंटरनेट पर सामने आया और यह भारत से नहीं है।
 

 
हम दो पाकिस्तानी फेसबुक को भी ढूंढ़ने में सक्षम रहे जहां यह वीडियो शेयर किया गया था। कोहेनूर न्यूज पर 21 अगस्त को और नेटिव पाकिस्तान पर 27 अगस्त को यह वीडियो शेयर किया गया था।
 
बूम एक यूट्यूब वीडियो भी ढूंढने में सक्षम रहा, जिसमें कहा गया था कि यह घटना केपीके या खैबर पख्तुनख्वा में हुई थी। पूर्व में उत्तर-पश्चिम फ्रंटियर प्रांत, (एनडब्ल्यूएफपी) खैबर-पख्तुनख्वा, की सीमा के साथ 1,100 किलोमीटर से अधिक तक चलता है। इसकी राजधानी पेशावर है।
 

 
कराची स्थित अखबार, द न्यूज इंटरनेशनल ने स्वच्छता और स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के संबंध में अपने संपादकीय में वीडियो का संदर्भ भी बनाया था।
 
हालांकि हम निश्चित रूप से यह नहीं कह सकते कि वीडियो केपीके से है, लोकिन यह निष्कर्ष निकालने के लिए पर्याप्त सबूत हैं कि यह भारत से नहीं है और इसकी पाकिस्तान से होने की संभावना है।

 
 


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

FACT FILE

Opinion

To Top