नवजोत सिंह सिद्धू के रैली में "पाकिस्तान ज़िंदाबाद" के नारें और उस पर उठे विवाद का सच

सिद्धू ने हाल ही में राजस्थान में एक चुनावी रैली सम्बोद्धित की थी जिसके डॉक्टर्ड वीडियो फ़िलहाल सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं
ज़ी न्यूज़ एक बार फिर से चर्चा में हैं | और एक बार फ़िर से गलत कारणों की वजह से | तीन (3) दिसंबर को अपने वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट में ज़ी न्यूज़ ने दावा किया है की पाकिस्तानी समर्थकों ने नवजोत सिंह सिद्धू के अलवर रैली में पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगाएं | अपने दावे की पुष्टि करने के लिए इन्होने एक वीडियो क्लिपिंग भी शेयर की | इतना ही नहीं, ज़ी न्यूज़ ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से भी इस वीडियो को ट्वीट किया था | हालांकि बाद में ट्वीट हटा लिया गया, मगर तब तक इसे कई बार रीट्वीट किया जा चूका था | ज़ी द्वारा शेयर किये गए वीडियो के आर्काइव्ड संस्करण
यहां
और यहां देखें | वीडियो का सच असल वीडियो दरअसल सिद्धू द्वारा हाल ही में अलवर में सम्बोद्धित की गयी एक रैली से है | अपने भाषण के दौरान सिद्धू कई दफ़े प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण शैली की नक़ल करते हैं और पृष्ठभूमि में आप जनता के हंसने की आवाज़ सुन सकते हैं | बीच-बीच में आप 'जो बोले सो निहाल' और 'सिद्धू भाई ज़िंदाबाद' के नारे भी  सुन सकते हैं | तभी अचानक भीड़ में से बहुत हल्की आवाज़ में 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' की आवाज़ आती है | हालांकि जो वीडियो ज़ी न्यूज़ ने शेयर और ट्वीट किया है, और जो सोशल मीडिया पर फ़िलहाल वायरल हो चूका है, उसमे ठीक इसी जगह पर आप 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' सुनते हैं | आपको बता दे की 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' की आवाज़  इतने हलके स्वर में है की वो वीडियो में भी साफ़ सुनाई नहीं देती | ऐसे में भाषण देने वाले व्यक्ति को इसके लिए किसी भी तरह से ज़िम्मेदार ठहराना जायज़ नहीं है |
ज्ञात रहे की इन दिनों सिद्धू अपनी पाकिस्तान यात्रा को लेकर सोशल मीडिया पर ट्रोल हैंडल्स के निशाने पर हैं | ज़ी न्यूज़ द्वारा शेयर किये गए डॉक्टर्ड वीडियो को भी इन पेजों पर धड़ल्ले से शेयर किया जा रहा है | जब बूम ने सिद्धू के अलवर रैली के असल वीडियो को पूरा सुना तो हमें कहीं भी पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे सुनने को नहीं मिलें अलबत्ता भाषण के दौरान एक जगह भीड़ में से किसी ने पाकिस्तान मुर्दाबाद ज़रूर चिल्लाया था | असल वीडियो में आप इसे 6.18 पर सुन सकते हैं |
कांग्रेस का जवाब
ज़ी न्यूज़ के इस आरोप के जवाब में कांग्रेस पार्टी के कम्युनिकेशन्स इन-चार्ज रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इसी भाषण का एक क्लिप किया हुआ हिस्सा अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया | हालांकि यहां गौर करने लायक बात ये है की जो क्लिप कांग्रेस पार्टी ने ट्वीटर पर शेयर किया है वो ठीक वहाँ से शुरू होता है जहां असल वीडियो में नारेबाज़ी थोड़ी देर के लिए बंद होती है | अगर पार्टी आश्वस्त थी की रैली में किसी प्रकार की पाकिस्तान-संबंद्धित नारेबाज़ी नहीं हुई थी तो वो हिस्सा क्यों उड़ाया गया, इस बात का जवाब तो सिर्फ कांग्रेस ही दे सकती है |
आपको बता दें की इस पूरे मसले पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने मीडिया को सम्बोद्धित करते हुए कहा है वो ज़िम्मेदार लोगो पर मानहानि का मुकदमा दायर करेंगे | पूरी ख़बर यहां पढ़ें | ज़ी न्यूज़ के इस 'हरकत' की ट्विटर पर भी काफ़ी आलोचना हो रही है | पुराने किस्से ज़ी न्यूज़ इससे पहले भी डॉक्टर्ड वीडियोस के विवाद में फंस चूका है | वर्ष 2016 में हुए जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों द्वारा किये गए विरोध प्रदर्शन के दौरान भी ज़ी और कुछ अन्य न्यूज़ चैनलों ने डॉक्टर्ड वीडियो चलाये थे और इसके लिए इनकी काफ़ी भर्त्सना भी हुई थी |
Show Full Article
Next Story