पानी के नीचे ज्वालामुखी के नकली विस्फोट का वीडियो वास्तविक घटना के रूप में किया गया शेयर

बूम ने पाया कि नकली वीडियो भूवैज्ञानिकों द्वारा पानी के नीचे ज्वालामुखी विस्फोटों की विनाशकारी प्रकृति को चित्रित करने के लिए बनाया गया था

पानी के नीचे ज्वालामुखी विस्फोट का एक नकली वीडियो सोशल मीडिया और मैसेजिंग ऐप पर एक झूठे दावे के साथ वायरल हो रहा है । दावा किया जा रहा है कि यह इंडोनेशिया के उत्तरी सुमात्रा में हुए एक ज्वालामुखी विस्फोट का वीडियो है ।
बूम को अपने व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर पर यह वीडियो मिला जिसमें एक कैप्शन लिखा था, “इंडोनेशिया के उत्तर सुमात्रा में माउंट सिनाबुंग ने 9 जून को एक विस्फोट के दौरान आकाश में 7 किमी ऊंची मोटी राख चिंहित की । ज्वालामुखी के आस-पास रहने वाले निवासियों से आग्रह किया गया था कि राख की बारिश होने पर मास्क का उपयोग किया जाए और नदियों के किनारे रहने वालों को बारिश के दौरान ठंडे लावा कि बाढ़ की चेतावनी दी गई थी । हताहतों की कोई रिपोर्ट नहीं थी । अंत तक देखें । ”

(व्हाट्सएप संदेश का स्क्रीनशॉट। )

कैप्शन की एक फ़ेसबुक खोज से पता चला कि पिछले दो दिनों में इसी तरह के कैप्शन के साथ वीडियो को कई बार पोस्ट किया गया है ।

(फ़ेसबुक खोज परिणाम)

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वीडियो के कीफ़्रेम के साथ गूगल पर एक रिवर्स इमेज सर्च किया और पानी के नीचे ज्वालामुखी विस्फोट के नकली वीडियो के बारे में कई लेखों तक पहुंचे ।
एक्सप्रेस के अनुसार, अक्टूबर 2017 में, ऑस्ट्रेलियाई भूविज्ञानी और प्रड्यूसर की एक टीम ने ऑकलैंड, न्यूजीलैंड के तट पर सतह के नीचे एक विशाल ज्वालामुखी विस्फोट का एक वीडियो सिमुलेशन बनाया, ताकि ये दिखाया जा सके कि वे कितने विनाशकारी हो सकते हैं ।”
बाद में वीडियो को ऑकलैंड वॉर मेमोरियल म्यूजियम नाम के एक यूट्यूब चैनल द्वारा अपलोड किया गया ।



इस दौरान माउंट सिनाबुंग इंडोनेशिया

माउंट सिनाबुंग इंडोनेशिया का सबसे सक्रिय ज्वालामुखी है जिसने कुछ दस दिनों पहले ही लावा उगला है | बूम ने असली वीडियो को देखा और पाया की विस्फोट जमीन पर हुआ था ना की पानी के नीचे |



Claim Review :  पानी के अंदर माउंट सिनाबुंग ज्वालामुखी में एक विस्फोट के दौरान आकाश में 7 किमी ऊंची मोटी राख
Claimed By :  Facebook pages, Twitter handles and WhatsApp
Fact Check :  FALSE
Show Full Article
Next Story