बिहार में आरएसएस के आतंक के रूप में फ़िर वायरल हुआ वीडियो

बूम ने पाया की दावे फ़र्ज़ी हैं और यह घटना पुरानी है | पुलिस ने कार्यवाही कर कई अभियुक्तों को गिरफ़्तार भी किया था

Claim

बिहार में आरएसएस का आतंक | एक क्रिस्चियन महिला को नंग्न अवस्था में मारा और दौड़ाया गया | आरएसएस के उग्र हिन्दू उर्फ़ आरएसएस |

Fact

यह वीडियो सच है परन्तु इसमें आरएसएस कार्यकर्ताओं के शामिल होने वाले दावे झूठे हैं | यह बिहार के भोजपुर की घटना है जो 20 अगस्त 2018 को हुई थी | भीड़ का आक्रोश तब फूटा जब बिमलेश साओ नामक 19 वर्षीय युवक की मृत्यु हुई और लोगों ने स्थानीय रेलवे ट्रैक के पास रहने वाले लोगों पर वैश्यावृत्ति के चंगुल में फ़साने का आरोप लगाया | इसके अंतर्गत भीड़ ने इस महिला पर क़त्ल का शक किया और इसे मारा | बूम ने इसपर पहले भी लेख लिखा है |

Claim Review :  बिहार में आरएसएस का आतंक | एक क्रिस्चियन महिला को नंग्न अवस्था में मारा और दौड़ाया गया | आरएसएस के उग्र हिन्दू उर्फ़ आरएसएस |
Claimed By :  Facebook page
Fact Check :  FALSE
Next Story