कथित भाजपा सदस्य ध्रुव सक्सेना से जुड़ी दो साल पुरानी ख़बर हुई फ़िर वायरल

मध्य प्रदेश पुलिस ने ध्रुव सक्सेना को वर्ष 2017 में पाकिस्तानी एजेंसी आई.एस.आई. के साथ लिंक्स होने के आरोप में पकड़ा था

सोशल मीडिया पर साथ ध्रुव सक्सेना नामक एक शख़्स की तस्वीरें वायरल की जा रही हैं | वायरल पोस्ट के साथ कैप्शन है "#लो मिल गया #गद्दार ,,,,,पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी #आईएसआई का एजेंट निकला #भाजपा आई टी सेल का जिला #संयोजक।अब समझ आई #भाजपाइयों की फर्जी #देशभक्ति आपको ?"

पोस्ट में यह भी दावा किया गया है की सक्सेना भाजपा के सदस्य और भोपाल आई.टी.सेल के कोआर्डिनेटर थे |

वायरल हो रही तस्वीरों और न्यूज़ क्लिप में ध्रुव सक्सेना पर देश के ख़िलाफ़ आतंकवादी संगठन आई.एस.आई को जानकारी देने के आरोप लगाया गया है। आपको बता दें की सक्सेना को वर्ष 2017 में एटीएस द्वारा हथियार इकट्ठा करने और देश की सुरक्षा से जुड़े महत्वपूर्ण सूचनाए इक्कठा करने के ज़ुर्म मे मध्य प्रदेश से अरेस्ट किया गया था |

फ़ेसबुक पर यह पोस्ट धड़ल्ले से वायरल किया जा रहा है। 'सुनील भारतीया' नामक अकाउंट से अकेले इस पोस्ट को उन्नतीस हज़ार से ज़्यादा शेयर्स मिले हैं।

इस पोस्ट के आर्काइवड वर्शन को यहाँ देखा जा सकता है।

इस पोस्ट को 'दुर्गालाल गुर्जर धाभाई' नामक अकाउंट से भी शेयर किया गया है जहाँ इसे 2400 से ज़्यादा शेयर्स मिले हैं।

इस पोस्ट के आर्काइवड वर्शन को यहाँ देखा जा सकता है।

इस न्यूज़ क्लिप को ट्वीट भी किया गया है।

फ़ेसबुक पर इस पोस्ट को काफ़ी जगह शेयर किया गया है।

फैक्ट चेक

जैसा की हमने आपको पहले ही बताया, ये ख़बर दो साल पुरानी है | पुलवामा हमले के बाद से भारत-पाकिस्तान के बीच चल रहे मौजूदा तनावपूर्ण स्थिति के बैकग्राउंड में इस ख़बर को वायरल किया जा रहा है |

सक्सेना को उस वक़्त मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके शिवराज सिंह चौहान द्वारा संबोधित किए जाने वाले एक कार्यक्रम में भी भाग लेते देखा गया था । सक्सेना की ये तस्वीरें भी इस वायरल पोस्ट में देखी जा सकती हैं |

हमने जब 'ध्रुव सक्सेना' कीवर्ड्स के साथ इंटरनेट पर सर्च किया तो कई लिंक्स सामने आये जहां सक्सेना के अरेस्ट की रिपोर्ट्स मौजूद थी |ध्रुव सक्सेना के साथ साथ और दस लोगों को भी मध्य प्रदेश एटीएस ने 2017 में गिरफ्तार कर कार्यवाही की थी। उस वक्त इस ख़बर ने काफ़ी चर्चा बटोरी थी और इसका राजनीतिकरण भी हुआ था |

हालांकि आधिकारिक तौर पर भाजपा ने गिरफ्तार किए गए लोगों के साथ किसी भी तरह के संबंध होने से इंकार किया था पर कांग्रेस ने भाजपा को इस गिरफ़्तारी को लेकर घेरा था |

बूम ने वायरल हो रहे इस पोस्ट से जुड़ी और जानकारी के लिए मध्य प्रदेश की सुरक्षा एजेंसियों से भी बात की |हमें बताया गया की सक्सेना फ़िलहाल ज़मानत पर बाहर है और कोर्ट ट्रायल अभी भी जारी है |

ऑल्ट न्यूज़ ने इस घटना से जुड़ी एक फैक्ट-चेकिंग रिपोर्ट वर्ष 2017 में की थी |

Claim Review :  ध्रुव सक्सेना का पुराना वीडियो क्लिप फिर हुआ वायरल
Claimed By :  Facebook posts
Fact Check :  Misleading
Next Story