बुर्क़ा पहने व्यक्ति की पुरानी तस्वीर हुई गलत सन्दर्भ में फ़िर से वायरल

तस्वीरें संभवतः वर्ष 2015 से है जब मंदिर परिसर में गौ-मांस फेंकने की कोशिश करते एक व्यक्ति को लोगों ने धर दबोचा था

Claim

मज़्ज़फ़रनगर मे संजीव बालियान ने सही मुद्दा उठाया है | बुर्क़ा वोट जैहाद को बढावा दे रहा है, मतदान केन्द्र के बाहर ही बुर्के वालियो की जांच हो चेहरे का मिलान हो | कई मतदान केन्द्रो में मर्द बुर्क़ा पहन कर फ़र्ज़ी वोट डालने जा रहे हैं |

Fact

रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है की तस्वीर वर्ष 2015 से है | कुछ ऑनलाइन रिपोर्ट्स की मानें तो तस्वीर में दिख रहा व्यक्ति एक आर.एस.एस कार्यकर्ता है जो उत्तरप्रदेश के आजमगढ़ में एक मंदिर में गौ-मांस फेंकने की कोशिश कर रहा था | बूम, हालांकि, स्वतंत्र रूप से इसकी पुष्टि नहीं कर पाया है की यह व्यक्ति आर.एस.एस से ताल्लुक रखता है |

To Read Full Story, click here
Claim Review :  मुज़्ज़फ़रनगर में बुर्क़ा पहन कर वोट डालने आये आदमी को लोगों ने पकड़ा
Claimed By :  Facebook pages
Fact Check :  FALSE
Next Story