Connect with us

नहीं, यह तस्वीर आईएएस टॉपर और उसके पिता की नहीं है

फ़ेक न्यूज़

नहीं, यह तस्वीर आईएएस टॉपर और उसके पिता की नहीं है

यह वायरल तस्वीर सच है लेकिन इसके साथ फैलाया जा रहा कैप्शन गलत है।

 

इन दिनों एक रिक्शा चलाती लड़की की तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर में एक युवा लड़की है जो कोलकाता का मशहूर हाथ रिक्शा खींच रही है और रिक्शा चलाने वाला सीट पर बैठा है। इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर बेटी और पिता के रुप में साझा किया जा रहा है।

 

तस्वीर कुछ ऐसे संदेश के साथ ऑनलाइन साझा किया जा रहा है, “दुनिया से अपने पिता को मिलवाती आईएएस टॉपर।” लेकिन बूम ने पाया कि तस्वीर के साथ फैलाया जाने वाला संदेश गलत है।

 

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) जे असलम बाशा ने तस्वीर को ट्वीट किया। उनके ट्वीट को 2,600 बार लाइक किया गया है। इस तस्वीर को कांग्रेस नेता और तिरुवनंतपुरम के सांसद शशि थरूर ने भी रीट्वीट किया था।

 

 

 

 

 

 

 

यह तस्वीर इंस्ट्राग्राम उपयोगकर्ता शर्मोना पोद्दार द्वारा लिया गया था और इस साल अप्रैल में पोस्ट किया गया था। तस्वीर के विवरण स्पष्ट है कि रिक्शा खींचने वाला लड़की से संबंधित नहीं है। उनकी पोस्ट रिक्शा खींचने वालों की ओर धारणा में धीरे-धीरे बदलाव की व्याख्या करती है – एक हाथ से खींचा रिक्शा चलाने के लिए सहानुभूति से प्रशंसा तक। इस पोस्ट को करीब 14,000 बार लाइक किया गया है।

 

 

 

View this post on Instagram

 

Repost from @wildcraftin So here goes the story behind this. Since childhood, whenever I used to visit the north and central part of Calcutta essentially, I would feel sympathetic everytime I would spot a hand pulled rickshaw, thereby choosing not to use them. Until recently when my sympathy coincided with the realization that we’re helping to earn their bread and butter only when we’re taking a ride. So last time I was in Calcutta, the #wildcraftwildling in me decided to pull a handpull rickshaw instead, to see how difficult and strenuous it really is. I asked the rickshaw uncle to have a seat while I pulled him around on the streets of Shobhabazar, tickling the bell at intervals while the whole street stood and watched in awe. I realized though there’s a lot of mechanism involved, it wasn’t a piece of cake at all. All my years of inquistiveness transpired to salutation for the extreme precision and relentless efforts that go in during each trip made. Yet each day they wake up with the same enthusiasm to battle the odds. This spirit is what inspires me to be #ReadyforAnything. #GoStreet #kolkata #calcutta #calcuttacacaphony #travel #handpullrickshaw #wildcraft #adventure #kolkatatourism #MishtiAndMeatftWildcraft Photo by @bhaskar_0007

A post shared by Shramona Poddar (@mishti.and.meat) on

(पोस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें)

 

बूम ने पोद्दार से संपर्क किया जिन्होंने बताया कि वो एक ट्रैवल ब्लॉगर हैं, न कि आईएएस टॉपर हैं। बूम से बात करते हुए, ट्रवल ब्लॉर शर्मोना पोद्दार ने बताया, “यह तस्वीर कुछ महीने पहले ली गई थी और उस समय भी यह वायरल हुआ था, लेकिन इतने अनोखे तरीके से नहीं, जैसे अब हुआ है।” पोद्दार ने यह भी बताया कि, हालांकि, यह तस्वीर फोटोग्राफर द्वारा खींची गई थी लेकिन यह किसी विज्ञापन अभियान का हिस्सा नहीं है।


BOOM is an independent digital journalism initiative. We are India's first journalist-driven fake news busting and fact checking website, committed to bring to our readers verified facts rather than opinion. When there is a claim, we will fact check it. We also report on stories and people who are fighting for individual rights, freedom of expression and the right to free speech. And some cool stuff when we are not doing that.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

FACT FILE

Opinion

To Top