इंडिया गेट पर 61,395 मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानियों के नाम अंकित नहीं हैं

इंडिया गेट एक युद्ध स्मारक है जिसे तत्कालीन ब्रिटिश भारतीय सेना के सैनिकों को सम्मानित करने के लिए बनाया गया था जो प्रथम विश्व युद्ध में मारे गए थे
Ravish-India Gate

फ़ेसबुक पर विभिन्न ग्रूप के विभिन्न पेजों के माध्यम से निम्नलिखित दावे सामने आए हैं:

  1. इंडिया गेट पर 95,300 स्वतंत्रता सेनानियों के नाम अंकित हैं।
  2. इनमें से 61,395 मुस्लिमों के नाम हैं।

ये दावे फ़ेसबुक पर हिंदी में प्रसारित हो रहे हैं जैसा कि नीचे की तस्वीरों में एनडीटीवी के रवीश कुमार की एक तस्वीर के साथ दिखाया गया है।

Ravish 1

इन तस्वीरों पर रिवर्स सर्च करने पर, बूम ने पाया कि ये तस्वीरें पहले भी विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर प्रसारित की जाती रही है।

Ravish 2

इन नंबरों को विच्छेदित करते हुए, यह दावा अन्य पोस्टों में भी सामने आया है:



फ़ैक्ट चेक

इंडियागेट का इतिहास

उपरोक्त दावों के विपरीत, एक स्मारक के रूप में इंडिया गेट उन लोगों को सम्मानित नहीं करता है जो भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान मारे गए थे। यह एक युद्ध स्मारक है जो तत्कालीन ब्रिटिश भारतीय सेना के सैनिकों को सम्मानित करने के लिए बनाया गया था जो प्रथम विश्व युद्ध में मारे गए थे।

जैसा कि इंडिया गेट पर ही लिखा गया है:

इसके अलावा, स्मारक के शिखर में 'भारत' शब्द शामिल हैं, जिसके आगे शिलालेख है:

MCMXIV - 1914 के लिए रोमन अंक
MCMXIX - 1919 के लिए रोमन अंक

ये प्रशम विश्व युद्ध से जुड़े साल हैं। दोनों शिलालेख ऊपर उबारे गए हैं और स्मारक के शिखर पर शिलालेख को निम्नलिखित तस्वीर में देखा जा सकता है:

इंडिया गेट की नींव 1921 में ड्यूक ऑफ कनॉट द्वारा रखी गई थी और एडवर्ड लुटियन द्वारा डिजाइन किया गया था। इसके एक दशक बाद तत्कालीन वायसराय लॉर्ड इरविन ने इसका उद्घाटन किया था। ये घटनाएं आजादी से पहले हुई थी, जिसका मतलब है कि स्मारक स्वतंत्रता सेनानियों को समर्पित नहीं किया जा सकता है।

इंडिया गेट के दीवारों पर अंकित नाम

इंडिया गेट के एक प्रथम विश्व युद्ध स्मारक होने का मतलब है कि भारत तब ब्रिटिश राष्ट्रमंडल का हिस्सा था। इंडिया गेट पर न केवल भारतीय सैनिकों बल्कि यूनाइटेड किंगडम और ऑस्ट्रेलिया के लोगों के नाम भी हैं। कुल 13,216 नाम अंकित हैं। इन नामों का एक पूरा डेटाबेस कॉमनवेल्थ वॉर ग्रेव्स कमिशन (CWGC) से मिल सकता है। एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है जिसकी जिम्मेदारी राष्ट्रमंडल के सैनिकों की कब्रों की पहचान करना और उन्हें बनाए रखना है, जिन्होंने दोनों विश्व युद्धों में अपनी जान गंवाई है।

उनकी वेबसाइट के अनुसार, भारत ने 2015/16 में इस संगठन को वित्त पोषण प्रदान किया। जबकि सीडब्लूजीसी इंडिया गेट पर अंकित सैनिकों के नाम पर समग्र जानकारी प्रदान करता है, यह उनके धर्म का कोई उल्लेख नहीं करता है। यह उनके सिद्धांतों के अनुरूप है, जहां वे कहते हैं:

सैन्य रैंक, नस्ल या पंथ के आधार पर कोई भेद नहीं किया जाना चाहिए

इन तस्वीरों के माध्यम से प्रसारित होने वाले दावों का पता लगाने के लिए बूम ने निम्नलिखित दो स्रोतों की जांच की:

• दिल्ली पर्यटन की आधिकारिक वेबसाइट
• सीडब्लूजीसी डेटा, जिसे यहां पाया और डाउनलोड किया जा सकता है।

इसलिए, यह दिखाने के लिए कोई सबूत नहीं है कि इंडिया गेट पर 95,300 नाम अंकित हैं या इनमें से अधिकांश अंकित नाम मुस्लिमों के हैं।

Claim Review :  इंडिया गेट पर 61,395 मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानियों के नाम अंकित हैं
Claimed By :  Facebook pages, Twitter handles, and Sharechat
Fact Check :  FALSE
Show Full Article
Next Story