नहीं, नशे में नहीं थे अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को नशे में दिखाने के लिए 2017 के एक वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गई है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को फेसबुक लाइव वीडियो रिकॉर्ड करने के दौरान नशे में धुत और लड़खड़ा कर बोले हुए दिखाए जाने वाला वीडियो फर्जी है।

केजरीवाल को धीरे बोलता हुए दिखाने के लिए एडिटिंग के माध्यम से मूल वीडियो को धीमा कर दिया गया है। भ्रामक क्लिप फेसबुक पर हीरा सिंह द्वारा पोस्ट की गई थी।

पोस्ट के टेक्स्ट का अनुवाद कुछ ऐसा है, ‘नशे में धुत, फर्जी राष्ट्रवादी, केजरीवाल किसी काम के नहीं। भविष्य में मतदान करते समय सावधान रहें, दिल्ली'।

वीडियो को इस तरीके से संपादित कर यह दिखाया गया है कि अरविंद केजरीवाल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिक्र कर रहे हैं और वीडियो दर्शक को यह विश्वास करने के लिए भ्रमित करता है कि केजरीवाल आगामी ‘लोकसभा चुनाव’ को मोदी के अंतिम चुनाव के रूप में संदर्भित कर रहे हैं।

इस कहानी को लिखते समय पोस्ट को 1100 से अधिक बार शेयर किया गया हैं। पोस्ट के संग्रहीत संस्करण को देखने के लिए यहां क्लिक करें।

हालांकि, मूल वीडियो दो साल पहले का है और 29 जनवरी, 2017 को फेसबुक लाइव रिकॉर्ड किया गया था। यह वीडियो पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले बनाया गया था, जो फरवरी 2017 में हुआ था।

मूल वीडियो के कैप्शन में लिखा है 'कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रकाश सिंह बादल कह रहे हैं कि यह उनका आखिरी चुनाव है। आपको उस उम्मीदवार को कभी वोट नहीं देना चाहिए जो यह दावा करता है कि यह उनका अंतिम चुनाव है।'

अरविंद केजरीवाल के सत्यापित फेसबुक पेज पर यह वीडियो पाया जा सकता है।

Claim Review :   दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को फेसबुक लाइव वीडियो रिकॉर्ड करने के दौरान नशे में धुत और लड़खड़ा कर बोले हुए दिखाए जाने वाला वीडियो फर्जी है।
Claimed By :  facebook
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story