Connect with us

क्या वाकई अर्नब गोस्वामी ने पीएम को पत्र में लिखा ‘वी डोंट डिजर्व यू’ ?

क्या वाकई अर्नब गोस्वामी ने पीएम को पत्र में लिखा ‘वी डोंट डिजर्व यू’ ?

विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद, नरेंद्र मोदी के लिए लिखी गई तीन साल पुरानी चिट्ठी तेजी से फैल रही है। दावा किया जा रहा है कि यह चिट्ठी  रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी द्वारा लिखी गई है।

 

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित करते हुए लिखा गया एक खुला पत्र तेजी से फैल रहा है। दावा किया जा रहा है कि यह चिट्ठी रिपब्लिक टीवी के संस्थापक, अर्नब गोस्वामी द्वारा लिखी गई है। लेकिन बूम की जांच से पता चलता है कि यह चिट्ठी तीन साल पुरानी है और टीवी एंकर अर्नब गोस्वामी द्वारा नहीं लिखी गई है।

 

यह पोस्ट बीजेपी के कई अनौपचारिक फैन पेजों द्वारा साझा किया गया है। चिट्ठी का शिर्षक है, ‘डियर प्राइम मिनिस्टर, वी डोंट डिजर्व ए पर्सन लाइक यू’ जिसका हिंदी अनुवाद है, प्रिय प्रधानमंत्री, हम आपके जैसे शख्स के लायक नहीं हैं।

 

 

इस पत्र को व्हाट्सएप और फेसबुक पर संदेश के साथ भेजा जा रहा है, जो कहता है, “मोदी पर रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी ने अच्छा लिखा है।” पांच राज्यों में हाल ही हुए चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ( बीजेपी ) को भारी हार का सामना करने के बाद एक बार फिर इस पत्र को साझा किया जा रहा है।

 

यह पत्र दुख प्रकट करते हुए व्यक्त करता है कि भारत क्यों मोदी जैसे व्यक्ति के लायक नहीं है।

 

वायरल पोस्ट कहता है, “आप दिन में 16 घंटे से अधिक समय तक काम करते हैं .. इस देश के सुधार के लिए अपनी नींद बलिदान कर रहे हैं .. लेकिन आपको इसके लिए कभी भी प्रशंसा नहीं मिलेगा। आपको अभी भी छोटे मूर्ख मुद्दों के लिए दोषी ठहराया जाएगा .. ”

 

हालांकि, एक फैक्ट जांच से पता चलता है कि खुला पत्र अरनब गोस्वामी द्वारा नहीं लिखा गया था और यह करीब 2015 से चल रहा है। हालांकि, कुछ लोग इस पोस्ट के लिए हिंदुत्व को भड़काने वाले पेज, शंखनाद को जिम्मेदार बताया है, लेकिन यह पोस्ट बहुत पुराना है।

 

शंखनाद को अतीत में कई बार झूठी, सांप्रदायिक रूप से प्रेरित और दुर्भावनापूर्ण पोस्ट फैलाने के संबंध में पकड़ा गया है। (यहां, यहां और यहां पढ़ें)

 

(संग्रहीत पोस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें)

 

 

मार्च 2016 में अखबार डीएनए द्वारा वायरल पोस्ट की सूचना भी मिली थी, लेकिन एक खोज से पता चलता है कि यह ऑनलाइन 2015 में भी मौजूद है।

 

 

पत्र बिहार में परिणामों का संदर्भ देता है। पोस्ट कहती है “बिहार के नतीजों को देखें .. उन्होंने 8, 9वीं 12 वीं मानक उत्तीर्ण / असफल उम्मीदवारों को चुना है .. लेकिन उन्हें नहीं जो आपका प्रतिनिधित्व करते हैं, ” यह संकेत देता है कि शायद यह नवंबर 2015 के बाद लिखा गया हो सकता है।

 

यह स्पष्ट नहीं है कि पोस्ट के लेखक कौन हैं।

 

 

 

 

(BOOM is now available across social media platforms. For quality fact check stories, subscribe to our Telegram and WhatsApp channels. You can also follow us on Twitter and Facebook.)

mm

BOOM FACT Check Team

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

FACT FILE

Opinion

To Top