न यह केदारनाथ है और न ही पिथौरागढ़, मोरक्को में पिछले महीने आई अचानक बाढ़ का वीडियो हुआ ग़लत दावों के साथ वायरल

बूम ने पाया की यह बाढ़ अगस्त महीने में मोरक्को के तरोडान्ट इलाके में आयी थी जिसमें कम से कम सात लोग मारे गए थे
Kedarnath-Morocco-Flash flood

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक वीडियो क्लिप अचानक आयी बाढ़ दिखा रही है | लोग घबराकर इधर उधर भाग रहे हैं और वीडियो बना रहे हैं | इसे अंग्रेजी में फ़्लैश फ्लड कहा जाता है जब निचले स्तर वाली जगहों पर इस तरह अचानक बाढ़ आती है | इस क्लिप के साथ एक झूठा दावा जोड़ा जा रहा है की यह केदारनाथ में हुई कल की घटना है |

दावे में कहा गया है: आशा है आपने फ़्लैश फ्लड के बारे में सुना होगा | इसे अब होते हुए देखें | गौरीकुंड में दो मिनट का फ़्लैश फ्लड | कल केदारनाथ जाने के रास्ते पर बड़े बड़े पत्थरों को उखाड़ कर फेक दिया यह है प्रकृति |

अंग्रेजी में: Hope you may hear about flash floods….. Now you can see live….. Two minutes flash floods at gourikund….. On the way to kedarnath yesterday….. Washed away big stones .. thats nature…. (Sic)

२ मिनट ४६ सेकंड लम्बा वीडियो एक फ़्लैश फ्लड का है जिसने लोगों के मन में दहशत भर दी परन्तु यह वीडियो केदारनाथ से नहीं बल्क़ि मोरक्को में आयी बाढ़ का है | इस बाढ़ में कम से कम सात लोगों की जान जा चुकी है |

बूम को यह वीडियो अपने हेल्पलाइन नंबर 7700906111 पर मिला जहाँ इसके पीछे की सच्चाई के बारे में पुछा गया है |

WhatsApp screenshot
व्हाट्सएप्प पर मिला सन्देश

यही वीडियो फ़ेसबुक पर भी वायरल है | इस पोस्ट को नीचे देखें और इसका आर्काइव्ड वर्शन यहाँ देखें |



हमें समान वीडियो यूट्यूब पर भी ग़लत दावों के साथ मिला | यूट्यूब पर इस वीडियो को पिथौरागढ़ में बदल फटना बताया जा रहा है | यह भी एक झूठा दावा है |

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वीडियो क्लिप को कीफ्रेम्स में तोड़ा और एक रिवर्स इमेज सर्च चलाया जिससे हम एक यूट्यूब वीडियो तक पहुंचे जिसका इंट्रोडक्शन अरबी भाषा में था: ‘فاجعة.. سيول طوفانية تدمر بنايات وتجرف معها عددا من المواطنين’ | इसका हिंदी अनुवाद है: अनहोनी बाढ़ ने मनुष्यों और इमारतों को ध्वस्त कर दिया |

दर्शक विवेक का इस्तेमाल करें |

यह वीडियो हमें पिछले महीने की कुछ फ़ेसबुक पोस्ट्स में मिला जिसे कल हुए केदारनाथ में मनगढंत बाढ़ का बताया जा रहा है | अरबी भाषा में लिखे हुए पोस्ट्स इसे मोरक्को के अल हौज़ इलाके का बता रहे हैं | हालांकि अलग अलग पोस्ट्स इसे मर्राकेश का भी बता रहे हैं परन्तु यह सारे इलाके आस पास ही हैं |

यह पोस्ट्स फ़ेसबुक पर तीन हफ़्ते पहले पोस्ट की गयी हैं | वीडियो के पुराने होने का पता चलने पर हमने वायरल वीडियो के बारे में सर्च किया | हमनें फ़ेसबुक पर पुराने वीडियो और वायरल वीडियो में इमारतों, एक बड़े पत्थर को समान पाया |

Comparison of two videos

हमें कई समाचार लेख मिले जो मोरक्को में पिछले महीने आयी बाढ़ पर लिखे गए थे | यह बाढ़ मर्राकेक, काळात सृघना, चिचाओआ इलाकों में आयी थी | एक वायर न्यूज़ एजेंसी रायटर्स ने लिखा था, "कम से कम सात लोग मोरक्को में आये फ़्लैश फ्लड में मारे गए जब तरौड़ान्त के पास स्थित पहाड़ों पर लगातार बारिश हुई |…"

हमने मोरक्को की एक न्यूज़ एजेंसी मोरक्को वर्ल्ड न्यूज़ के एक लेख में एम्बेड समान वीडियो पाया | यह लेख 2 सितम्बर 2019 को प्रकाशित हुआ था |

Morocco World News story
मोरक्को वर्ल्ड न्यूज़ का लेख जिसमें वायरल वीडियो है

इस न्यूज़ एजेंसी ने वीडियो किसी और के यूट्यूब चैनल से लिया है जिसे किसी भी तरह से बूम सत्यापित नहीं करता | बूम इस वीडियो के मोरक्को से होने की पुष्टि स्वतंत्र रूप से नहीं कर सकता |

Claim Review :  कल गौरीकुंड केदारनाथ में फ़्लैश फ्लड आया
Claimed By :  WhatsApp and Facebook page
Fact Check :  FALSE
Show Full Article
Next Story