एग्ज़िट पोल के वीडियो को मॉर्फ़ करके गलत सन्दर्भ में वायरल किया गया

टेली-स्क्रीन पर फ़ुटबॉल मैच देख कर जश्न मनाते लोगो का ये वीडियो दो साल पुराना है और भारत से नहीं है

करीब दो साल पहले इंग्लैंड और वेल्स के बीच हुए फ़ुटबाल मैच के दौरान जश्न मनाती भीड़ के एक वीडियो को एडिट करके गलत सन्दर्भ में ट्वीट किया गया है | ट्वीट के साथ दावा किया गया है की भारतीय जनता पार्टी के जीतने पर समर्थकों ने उत्साहपूर्वक जश्न मनाया | आपको बता दें की यह दावा गलत है |

(प्रकाश गुप्ता के द्वारा ट्वीट)

प्रकाश गुप्ता द्वारा किये गए ट्वीट को आप यहाँ और इसके आर्काइव्ड वर्शन को यहाँ देख सकते हैं |

चुनावी परिणाम घोषित होने से पहले ही प्रकाश गुप्ता नामक एक ट्विटर यूज़र ने एक वीडियो ट्वीट किया जिसमे कई लोग एक जगह खड़े होकर एक विशालकाय स्क्रीन पर एक वीडियो देख रहें हैं | वीडियो में एग्जिट पोल के रिज़ल्ट दिखाए जा रहें हैं और स्क्रीन पर दिख रहा एंकर अंग्रेजी में कह रहा है, "क्या उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी 2014 वाली सफ़लता दुहरा सकेगी? जी हाँ वो दुहरा रही है |" ठीक इसी समय भीड़ उत्साह से चिल्लाने लगती है |

वीडियो के साथ कैप्शन में लिखा है: इस तरह लोग @BJP4India की जीत का जश्न मन रहे है | जोश हाई है #मोदी आ गया #मोदी ने किया साफ़ #चुनाव परिणाम 2019 # अमेठी )

इस वीडियो को करीब 5,600 लोगो ने देखा है | बूम ने जब गौर से देखा तो पाया की वीडियो में दिख रहे टेली-स्क्रीन के ऊपरी हिस्से पर @Aetheist_Krishna लिखा हुआ है | हमने @Aetheist_Krishna के ट्विटर हैंडल को चेक किया तो पाया की मई 19 को उसने इसी वीडियो को ट्वीट किया था | आपको बता दें की मई 19 को चुनावों का सातवां और आख़िरी दौर ख़त्म हुआ था | @Aetheist_Krishna के ट्विटर हैंडल पर हमें उसके द्वारा फ़ोटोशॉप किये गए और कई फोटोज़ और वीडियोज़ मिले |



(कृष्णा द्वारा किया गया ट्वीट)

इस ट्वीट का आर्काइव्ड वर्शन यहां देखें |

फ़ैक्ट चेक

बूम ने जब इस वीडियो के स्क्रीन शॉट पर रिवर्स इमेज सर्च का इस्तेमाल किया तो मालूम हुआ की असल वीडियो एक फ़ुटबॉल मैच के दौरान लिया गया था |

यह वीडियो 2 साल पुराना है जो एश्टोन गेट स्टेडियम, ब्रिस्टन, में रिकॉर्ड किया गया है | वीडियो में इंग्लैंड की वेल्स के ख़िलाफ 1984 के बाद पहली जीत का उत्सव दिखाया गया है जो इंग्लैंड के लिए यूरो 2016 में भी पहली जीत थी | यह गोल डेनियल स्टर्रिज द्वारा किया गया था जिसके बाद इंग्लैंड के समर्थको के बीच एक उमंग की लहर दौड़ गयी थी |

हालांकि इस मैच को जीतने के बाद भी इंग्लैंड फाइनल तक नहीं पहुंच सका था और यूरो 2016 का ख़िताब पुर्तगाल के नाम रहा था |

वास्तविक वीडियो को आप नीचे देख सकते हैं |



पहली बार नहीं हुआ है वायरल

आपको बता दें की ये पहली बार नहीं है की ये वीडियो गलत सन्दर्भ में वायरल हुआ है |

हाल ही में जब विंग कमांडर अभिनन्दन वर्थमान पाकिस्तान की गिरफ़्त में आने के बाद सही सलामत भारत लौटे थे तब भी अक्षय सिंह नामक एक ट्विटर उपभोक्ता ने इस वीडियो को पोस्ट किया था और लिखा था: Look how People are happy with #ModiNiti Reaction of Indians when our Jawan Abhinandan enters in India. (देखिये लोग कैसे ख़ुशी मना रहे है #मोदी नीति भारतीयों की प्रतिक्रिया जब हमारा जवान अभिनन्दन भारत लौटा)



इस ट्वीट को आप यहाँ देख सकते है और इसके आर्काइव्ड वर्शन को यहाँ देख सकते हैं |

अक्षय सिंह खुद को पश्चिम बंगाल बीजेपी के सोशल मीडिया का सदस्य बताते हैं जिनके ट्वीटर पर करीब साढ़े दस हज़ार फॉलोवर्स है जिनमे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी शामिल हैं |

ये ही नहीं, रॉन जॉनसन नामक एक और ट्वीटर यूज़र, जो खुद को फ़ुटबॉल एनालिस्ट बताते हैं, ने भी यह वीडियो शेयर किया था जिसमे एक डीवीडी का लोगो स्क्रीन पर घूमता नज़र आता है | इस वीडियो को आप यहाँ देखें और इसके आर्काइव्ड वर्शन को यहाँ देख सकते हैं |

Claim Review :  टेली-स्क्रीन पर चुनावों का परिणाम देखकर भाजपा के जीत का जश्न मनाती भीड़
Claimed By :  Twitter handles
Fact Check :  FALSE
Show Full Article
Next Story