मूड ऑफ़ द नेशन सर्वे के आंकड़ों को किया गया तोड़-मरोड़ कर वायरल

वायरल हुए पोस्ट में सर्वे का निष्कर्ष राहुल गाँधी को पी.एम की रेस में मोदी से आगे बताता है

विथ राहुल गाँधी नाम के पेज से शेयर किया गया एक पोस्ट फ़िलहाल बेहद वायरल हो रहा है | पोस्ट दरअसल ये दावा करता है की कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी आगामी आम चुनावों में प्रधानमंत्री पद के प्रबल दावेदार हैं |

वायरल पोस्ट

वायरल हुआ पोस्ट

पोस्ट का आर्काइव्ड संस्करण आप यहां देख सकतें हैं |

आजतक पर हाल ही में प्रसारित मूड ऑफ़ द नेशन सर्वे के आंकड़ों को प्रधानमंत्री मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के तस्वीरों के साथ दिखाते इस पोस्ट के साथ ये सन्देश भी है:
फर्स्ट चॉइस फॉर पी.एम् RahulGandhi -👉 52 %, NarenderModi 👉 46%

फैक्ट चेक

हालांकि इस पोस्ट में दिखाए गए आकंड़ें सही है पर यहाँ पर कहानी ज़रा अलग है | दोनों आंकड़ें, जिन्हे पास पास रखा गया है, दो अलग अलग सवालों से संबंद्धित हैं | बूम ने जब इस साल जनवरी 24 को आज तक पर प्रसारित हुए देश का मिज़ाज का वीडियो देखा तो पूरी सच्चाई सामने आयी |

जहां राहुल गाँधी के तस्वीर के सामने 52 प्रतिशत का आंकड़ा दिखाया जा रहा है, वहाँ सवाल दरअसल ये है:
विपक्ष के नेताओं में पी.एम मोदी का सबसे बेहतर विकल्प ?

चौबीस जनवरी को प्रसारित हुए मूड ऑफ़ द नेशन का स्क्रीनग्रैब

वहीँ, नरेंद्र मोदी के तस्वीर के सामने दिखाए जा रहे आंकड़े से जुड़ा सवाल ये है:
प्रधानमंत्री पद के लिए सबसे बेहतर उम्मीदवार कौन है?


चौबीस जनवरी को प्रसारित हुए मूड ऑफ़ द नेशन का स्क्रीनग्रैब

वायरल हुए पोस्ट में आंकड़े और तस्वीरें तो सही दिखाई गयी हैं मगर सवाल गोल कर दिया गया है | ऐसे में मालूम होता है की प्रधानमंत्री पद के लिए सबसे बेहतर उम्मीदवार की रेस में राहुल गाँधी मोदी से आगे हैं | सच्चाई, हालांकि कुछ और है |

गौरतलब बात ये है की गाँधी, जो एक वक्त प्रधानमंत्री पद की दावेदारी की रेस में काफ़ी पिछड़े हुए थे, इस सर्वे में चौंतीस प्रतिशत के साथ नरेंद्र मोदी के ठीक पीछे हैं |


चौबीस जनवरी को प्रसारित हुए मूड ऑफ़ द नेशन का स्क्रीनग्रैब

प्रधानमंत्री पद के इस रेस में नाम तो ममता बनर्जी, प्रियंका गाँधी और अरुण जैटली का भी उभर के सामने आया, मगर काफ़ी काम वोट प्रतिशत के साथ |

ममता बनर्जी की दावेदारी

प्रियंका गाँधी की दावेदारी

क्या है मूड ऑफ़ द नेशन सर्वे ?

मूड ऑफ़ द नेशन इंडिया टुडे-कार्वी ग्रुप्स द्वारा हर छः महीने में किये जाने वाला एक पोल है |
दिसंबर 28, 2018 और जनवरी 8, 2019 के बीच संपन्न हुआ ये सर्वे 19 राज्यों में 194 विधान सभा और 97 संसदीय क्षेत्रों में 12166 लोगों के बीच किया गया |

यह सर्वेक्षण इसलिए और महत्वपूर्ण हो जाता है क्यूंकि आम चुनावों में ख़ास वक्त नहीं बचा है | सर्वे में आगामी चुनावों में होने वाली संभावित सीट शेयरिंग पर भी अंदाजा लगाया गया था |

Show Full Article
Next Story