जानिये पुलवामा हमले से जोड़कर वायरल किये जा रहे इस वीडियो का सच

पुलवामा हमले के कुछ घंटो के भीतर ही इस पुराने वीडियो को गलत सन्दर्भ में किया गया वायरल

दावा: "बधाई हो भाइयो सेना ने पहला आतंकी पकड़ लिया है 🙏🙏💪💪🙏🙏 जय हिंद"

रेटिंग: झूठ

सच्चाई: इस वीडियो को कुछ दिन पहले पुलवामा में हुए आतंकी हमले से जोड़ कर वायरल किया जा रहा है। वीडियो में कुछ लोगों को एक आदमी को बुरी तरह से मारते हुए देख सकते हैं | वायरल पोस्ट के साथ कैप्शन में लिखा है, "बधाई हो भाइयो सेना ने पहला आतंकी पकड़ लिया है। जय हिंद"

फ़ेसबुक पर इस वीडियो को "दैनिक अपडेट" नामक पेज पर शेयर किया गया है जहाँ इसे तीन हज़ार से ज़्यादा व्यूज मिले हैं।

फ़ेसबुक पर इसे और भी कई पेजों से शेयर किया गया है |

pakistani soldier tortured

इस वीडियो को ट्वीट भी किया गया है।

फैक्ट चेक

गूगल रिवर्स इमेज सर्च से कुछ लिंक सामने आते है जिससे वीडियो की ज़्यादा जानकारी मिलती है। पाकिस्तानी पत्रकार हामिद मीर द्वारा वर्ष 2018 में एक ट्वीट किया गया था। मीर ने वीडियो को ट्वीट कर भारत सरकार पर कटाक्ष करते हुए आरोप लगाया था कि नई दिल्ली ने इस्लामाबाद के साथ राजनैतिक बातचीत रद्द कर दी है ।

इस वीडियो क्लिप में सैनिकों के एक छोटे से समूह को एक आदमी को पीटते हुए दिखाया गया है। मार खा रहे आदमी की कलाई और टखने एक खाट से बांधे हुए हैं । सैनिकों के चेहरे छुपे हुए हैं और वह पूरे पाशविक बल के साथ बंधे हुए आदमी को पीट रहे हैं । पिटाई में कम से कम चार पुरुष शामिल दिखाई देते हैं जबकि पांचवें व्यक्ति को कुछ दूरी पर बैठा देखा जा सकता है।

सैनिकों को हिंदी में बोलते हुए भी सुना जा सकता है, "अपने कमांडर का नाम बता"। मार रहे सैनिकों में से एक पूछता है, "बता दियो (हमें बताओ)"। जब मार खा रहा आदमी 'ना' में जवाब देता है, वह अधिक पीटा जाता है।



वीडियो का बारीकी से विश्लेषण करने पर पता चलता है कि यह वीडियो में सैनिक भारतीय नहीं हैं। वीडियो में सैनिकों को एक अर्धचंद्र और एक तारा अंकित की हुई यूनिफार्म पहने देखा जा सकता है जो पाकिस्तानी सेना की यूनिफार्म है।

पाकिस्तानी ध्वज

पाकिस्तानी पत्रकार मीर के किये गए ट्वीट के कमेंट सेक्शन में कई ट्विटर यूजर कहते है की वीडियो पाकिस्तान का है और भारत का नहीं। कुछ यूजर ने यह भी टिप्पणी की कि यह वीडियो पाकिस्तान के विशेष बलों के प्रशिक्षण का हिस्सा है।

बूम ने अलग-अलग कैप्शन के साथ ऑनलाइन फ़ेसबुक पर पोस्ट किए गए वीडियो के तीन उदाहरण भी पाए हैं । हालाँकि, सभी तीन वीडियो में सैनिकों को पाकिस्तान की सेना के यूनिफार्म में देखा जा सकता है ।

वर्ष 2018 को यह ट्वीट किया गया था कि 'पाकिस्तान की सेना एक निर्दोष बलूच छात्र पर अत्याचार कर रही है।'

शहाब बलूच नाम के एक फेसबुक पेज ने भी 5 जुलाई, 2018 को इसी वीडियो को इस कैप्शन के साथ अपलोड किया था , "पाकिस्तान सेना द्वारा एक युवा बलूच पर अत्याचार।"

अगस्त में उसी वीडियो के अन्य विवरणों में कहा गया है कि यह वीडियो विशेष सेवा समूह (SSG) पाकिस्तान सेना के भीतर एक एलीट कमांडो बल द्वारा प्रदान किए गए प्रशिक्षण का वीडियो था।

'यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ पाकिस्तान' नामक एक यूट्यूब चैनल ने 29 अगस्त, 2018 को एक वीडियो को कैप्शन के साथ अपलोड किया था।

बूम ने यूट्यूब पर अन्य एसएसजी प्रशिक्षण वीडियो खोजे जिसमे सैनिकों को मारते हुए देखा जा सकता है ।'जीवन रक्षा प्रशिक्षण ’ शीर्षक वाले एक वीडियो में, सेना की वर्दी पहने एक आदमी को एक खाट से बांधा गया है, जबकि इसी तरह की पोशाक में चार अन्य सैनिकों ने उसे रोक दिया।

हामिद मीर और यूट्यूब वीडियो द्वारा शेयर किए गए वीडियो में खाट एक समान दिखाई देती है और आदमी को नीचे गिराने का तरीका और पिटाई में लिया गया पोज़ भी इसी तरह मिलता है।

पाकिस्तान सेना एसएसजी कमांडो ट्रेनिंग ’शीर्षक से एक वीडियो क्लिप भी वायरल हुआ है। जो कहता है 'ओएमजी | मार रहे सिपाही पंजाबी लहजे के साथ हिंदी में पूछताछ कर रहे है ।

https://youtu.be/_ce60FObcko

अंत में हमने पाकिस्तान डिफेंस (@defencedotpk) के अकाउंट से एक ट्वीट भी पाया । पाकिस्तान सेना के एक ऑनलाइन फोरम में देश के रक्षा बलों और भू-राजनीतिक मामलों से संबंधित विषयों के बारे में पोस्ट यहाँ देखे जा सकते हैं । यह एक अंतरराष्ट्रीय थिंक-टैंक द्वारा चलाया जाता है, अपने फेसबुक पेज के अनुसार। जबकि खाता आधिकारिक नहीं है, ट्विटर पर इसके 1,05,000 से अधिक अनुयायी हैं और पाकिस्तान समर्थक और भारत विरोधी सामग्री ट्वीट करने के लिए जाने जाते हैं।

पाकिस्तान डिफेंस क्वोट ने हामिद मीर के ट्वीट को ट्वीट किया और कहा, "यह वीडियो पाकिस्तान सेना के विशेष सेवा समूह (एसएसजी) का है। यह एक प्रशिक्षण मॉड्यूल का एक आवश्यक हिस्सा है जिसे SERE प्रशिक्षण व्यवस्था के तहत "यातना प्रूफिंग" कहा जाता है। हर एसएसजी प्रशिक्षु को यातना के अधीन किया जाता है। इस वीडियो का उपयोग कई लोगों द्वारा गलत विवरण के साथ किया गया है।”

हालांकि, बाद में अकाउंट ने ट्वीट को डिलीट कर दिया। प्रोफ़ाइल के आर्काइवड वर्शन को देखने के लिए यहां क्लिक करें।

बूम ने इस विषय पर एक डिटेल रिपोर्ट की है जिसे यहाँ पढ़ा जा सकता है।

Claim Review :  वायरल वीडियो में फ़ौजिओं द्वारा पीटा जा रहा शख़्स पुलवामा हमले का आरोपी है
Claimed By :  Facebook pages
Fact Check :  FAKE
Show Full Article
Next Story