अभिनेत्री की मौत से कीटो डाइट पर छिड़ी बहस

कीटो डाइट में कम कार्बोहाइड्रेट और उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करना शामिल है |

27 वर्षीय अभिनेत्री मिष्टी मुखर्जी का बैंगलोर में रेनल फ़ेलियर (Renal Failure) यानी किडनी फ़ेल होने से निधन हो गया। कई मीडिया रिपोर्टों में उनके परिवार द्वारा दिए गए एक बयान के हवाले से कहा गया कि उनकी किडनी फ़ेल होने का कारण कीटोजेनिक डाइट (Keto Diet) है, जिससे उनकी मौत हुई।

हाल के दिनों में कीटोजेनिक डाइट (Ketogenic Diets) वजन कम करने के रूप में सशक्त डाइट बनकर उभरा है। इसमें वसा से भरपूर आहार और कार्बोहाइड्रेट में कमी का पालन करना शामिल है। बूम ने कीटोजेनिक आहार के फ़ायदे और नुकसान को समझने के लिए डायटिशियन गीता शेनॉय से बात की, जो मुंबई के चेंबूर में अपना न्यूट्रिशन और वेलनेस क्लिनिक चलाती हैं। वजन कम करने के लिए इसे कई हस्तियों ने अपनाया है।

शेनॉय कहती हैं कि "शुरुआत में मेडिकल न्यूट्रिशनल थेरेपी के रूप में सिफ़ारिश की जाती है। इस डाइट से लोगों की वजन घटाने की यात्रा में त्वरित परिणाम देखा गया है। मेडिकल न्यूट्रिशन में कीटोजेनिक डाइट की सिफ़ारिश की जाती है, मिर्गी और अल्जाइमर के इलाज में प्रयुक्त होता है जहां न्यूरोट्रांसमीटर का स्तर प्रभावित होता है।"

यह डाइट वजन कम करने मददगार साबित होती है और मेडिकल थेरेपी में इसका इस्तेमाल स्वास्थ्य लाभों से ज़्यादा वजन घटाने के उद्देश्य से होता है। यह केवल थोड़े समय के इस्तेमाल के लिए है और इसका लंबे समय तक लाभ का अध्ययन किया जाना है, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक डाइट विशेषज्ञ ने बताया।

कीटो डाइट क्या है

कीटोजेनिक डाइट कीटोसिस शब्द से लिया गया है जो शरीर द्वारा अपनाई गई ऊर्जा और मेटाबोलिज़्म (यानी भोजन पचाने) का रास्ता है। इसमें अनाज, और फलियां और ग्लूकोज (चीनी) जैसे कार्बोहाइड्रेट का सेवन कम करने की आवश्यकता होती है, जो शरीर के मुख्य ऊर्जा स्रोत हैं जो या तो ग्लुकोनोजेनेसिस या कीटोसिस से गुजरते हैं। जैसे ही शरीर में कार्बोहाइड्रेट, जो ग्लूकोज़ पैदा करते हैं, की कमी होती है शरीर ऊर्जा की कमी को पूरा करने के लिए अन्य अणुओं की खोज करता है।

ग्लूकोनोजेनेसिस में, ग्लूकोज़ का उत्पादन करने के लिए शरीर गैर-कार्बोहाइड्रेट तत्वों का सहारा लेता है। हालांकि, कीटोजेनिक डाइट में, ग्लूकोज़ का स्तर गिरता है। इस प्रकार, शरीर फैटी एसिड के भंडार पर निर्भर करता है जिससे लीवर में कीटोन्स टूट जाते हैं और शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं। यह प्रक्रिया, तेजी से वजन घटाने में मदद करती है क्योंकि शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए लगातार वसा को तोड़ा जाता है। स्वस्थ तेल, नट और बीज, एवोकैडो, मछली जैसे खाद्य पदार्थ फैटी एसिड से भरपूर होते हैं।

इस डाइट का पालन करते हुए शरीर कई ज़रूरी तत्वों से वंचित रह जाता है। लोगों को इस डाइट को बनाए रखने के लिए अनुशासित रहने के लिए कहा जाता है क्योंकि यह थोड़ा कठोर होता है और ठीक से पालन न करने पर कई तकलीफें पैदा हो जाती है।

शेनॉय बताती हैं "इस डाइट का पालन करने के लिए मूल आधार यह है कि खाने की लिमिट एकदम सटीक होनी चाहिए। डाइट के दौरान किसी भी प्रकार की 'चीट डाइट' नहीं कर सकते। इसके अलावा, इस डाइट का पालन करने वाले लोगों को अपने डाइट को संतुलित करने के लिए मल्टीविटामिन और रेशेदार खाद्य पदार्थों जैसे पूरक आहार का सेवन करना पड़ता है।"

कीटो डाइट अपनाने से पहले ज़रूरी कदम

शेनॉय इस बात पर जोर देती हैं कि कीटो डाइट को पूरी तरह से शरीर की जांच के बाद ही लिया जाना चाहिए और एक से ज्यादा बार रक्त जांच यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि डाइट का कोई दुष्प्रभाव न हो।

शेनॉय कहती हैं, "हर कदम पर ग्राहकों की जांच की जाती है। यूरिक एसिड, उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, टाइप 1 डायबिटीज़, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इस डाइट से हमेशा दूर रखा जाता है।"

हालांकि यह आहार मौजूदा सह-रुग्णता (co-morbidities) वाले लोगों को प्रभावित करता है, यह हार्मोनल संतुलन को बेहतर बनाने में भी मदद करता है। "पीसीओडी और टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों पर इस डाइट के साथ अच्छे परिणाम देखे गए हैं," शेनॉय कहती हैं।

अध्ययन बताते हैं कि लो-कार्ब और कीटोजेनिक डाइट के इस्तेमाल से मृत्यु दर में कमी देखि गयी है और लोगों को डायबिटीज़ की दवा लेने से रोकने में भी मदद की है। इनमें से सबसे लोकप्रिय बहस की गई, द प्रॉस्पेक्टिव अर्बन रूरल एपिडेमियोलॉजी 18 देशों में आयोजित की गई थी, जो कम कार्ब आहार का प्रचार कर रहे थे, हालांकि यह केवल निगरानी के लिए अध्ययन था।

मिष्टी मुख़र्जी के मामले पर बात करते हुए शेनॉय ने इस मामले की बारीकियों को जाने बिना टिप्पणी करने से इंकार कर दिया और कहा कि अंदरूनी समस्याओं के बिना ऐसी प्रतिकूल प्रतिक्रियाओं की संभावना नहीं हैं।

शेनॉय कहती हैं "लोग उच्च प्रोटीन डाइट के लिए हाई-फ़ैट डाइट की गलती करते हैं और हाई प्रोटीन का इस्तेमाल करते हैं जो कि किडनी को प्रभावित कर सकता है।" अंडे, पनीर, मीट के अधिक सेवन के साथ-साथ, वसा युक्त भोजन जैसे कि जैतून, एवोकैडो और बादाम के तेल और नट्स का सेवन करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

वजन कम करने का तेज़ तरीका चुनौतियों से भरा है

शरीर में अचानक कार्बोहाइड्रेट की कमी से शुरुआत में लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता है। "भोजन आराम देने वाला होता है। इस डाइट का पालन करते हुए फ़ील-गुड फ़ैक्टर खो जाता है। जैसा कि हम जानते हैं कि चीनी और शक्कर वाले पेय तुरंत ऊर्जा प्रदान करते हैं। शुरुआत में, चक्कर आना, भ्रम, एकाग्रता की कमी हो सकती है, लेकिन यह थोड़े समय के लिए होता है और फ़िर इसकी आदत हो जाती है "

इसके अलावा केवल थोड़े समय के लिए कीटो डाइट का पालन किया जा सकता है। कार्बोहाइड्रेट के सेवन के साथ एक सामान्य संतुलित डाइट पर लौटने के लिए मार्गदर्शन और एक टाइम टेबल की आवश्यकता होती है। अगर पालन नहीं किया जाता है तो डाइट के दौरान जितना भी वजन कम हुआ था, वो फ़िर से वापस बढ़ जाता है। शेनॉय कहती हैं कि "डाइट से दूर होने के लिए धीरे-धीरे और निगरानी की आवश्यकता होती है, अगर वजन की निगरानी नहीं की जाती है तो वजन वापस आ जाता है।

फ़ाइबर युक्त भोजन और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर भोजन की कमी भी लोगों को पौष्टिक भोजन का सेवन करने के बजाय पूरक आहार पर निर्भर करता है।

शेनॉय हमें वजन कम करने के लिए वैकल्पिक डाइट बताते हुए कहती हैं कि वजन कम करने के लिए ऐसी डाइट लें जो शरीर को उन सभी आवश्यक पोषक तत्वों से वंचित न करे जो एक संतुलित आहार का हिस्सा हैं। "वजन कम करने के लिए पारंपरिक तरीके से पोर्शन और कैलोरी नियंत्रण सबसे अच्छा विकल्प है। भारत के संदर्भ में हमें फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए और अपने कार्बोहाइड्रेट की खपत को कम करना चाहिए लेकिन इसे पूरी तरह से छोड़ना नहीं चाहिए।"

बूम ने पहले भी ज़रना शाह, डाइट और पोषण विशेषज्ञ के साथ कीटोजेनिक डाइट्स पर चर्चा की थी।


Show Full Article
Next Story