कोलकाता में मुस्लिमों की रैली बताकर शेयर किये जा रहे इस वीडियो का सच क्या है?

बूम ने पहले भी इस वीडियो की जाँच की थी और पाया कि ये वीडियो भ्रामक है, इसकी सच्चाई कुछ और है.

Claim

यह दृश्य कश्मीर या केरल की नहीं बल्कि इस्लाम की दुलारी ममता बानो के राज्य बंगाल कि राजधानी कलकत्ता की है। मोदी को कोसने से पहले एक बार जरा इसपर भी गौर कीजिए...

Fact

ये वीडियो दरअसल बांग्लादेश का है जिसे साल 2017 में उस समय रिकॉर्ड किया गया था जब बांग्लादेश के एक दक्षिणपंथी इस्लामिक संगठन ने रोहिंग्या मुसलमानों पर म्यांमार में हो रहे अत्याचारों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया था. प्रदर्शनकारी ढ़ाका,जो कि बांग्लादेश की राजधानी है वहाँ स्थित म्यांमार के दूतावास की और रुख़ किया था. गूगल मैप की मदद से बूम ने अपनी पड़ताल में पाया कि ये ढ़ाका स्थित नज़रुल इस्लाम रोड है जहां प्रदर्शन हो रहा है. इसके अलावा जो गीत इस रैली के साथ बज रहा है वो उस समय का नहीं है बल्कि अलग से जोड़ा गया है.इस गीत को कलरब शिल्पगोष्ठी ने गाया है. ये दावा बिल्कुल फ़र्ज़ी है कि ये वीडियो पश्चिम बंगाल का है नीचे पूरी स्टोरी पढ़ें

To Read Full Story, click here
Updated On: 2021-06-10T17:18:36+05:30
Claim Review :   यह दृश्य कश्मीर या केरल की नहीं बल्कि इस्लाम की दुलारी ममता बानो के राज्य बंगाल कि राजधानी कलकत्ता की है। मोदी को कोसने से पहले एक बार जरा इसपर भी गौर कीजिए...!
Claimed By :  Sociel media
Fact Check :  Misleading
Show Full Article
Next Story