पाकिस्तान में पौधे उखाड़ते लोगों का वीडियो 'इस्लामोफ़ोबिक' दावों के साथ वायरल

बूम ने पाया कि पाकिस्तान के खैबर पख़्तूनख़्वा प्रांत में लोग विरोध में सरकार द्वारा लगाए गए पेड़ इसलिए उखाड़ रहे थे क्योंकि ज़मीन विवादित थी

पाकिस्तान से कुछ लोगों का पौधे उखाड़ते और काला झंडा लहराते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसे फ़र्ज़ी दावों के साथ शेयर किया जा रहा है कि वे लोग ऐसा इसलिए कर रहे हैं क्योंकि पेड़ लगाना इस्लाम के ख़िलाफ़ है |

बूम ने पाया की घटना 9 अगस्त 2020 को पाकिस्तान के खैबर पख़्तूनख़्वा में हुई थी जहाँ लोगों ने सरकार के विरोध में पौधे उखाड़े थे क्योंकि कथित तौर पर उस ज़मीन के स्वामित्व को लेकर विवाद था |

9 अगस्त 2020 को पाकिस्तानी सरकार ने 'टाइगर फ़ोर्स डे' के मौके पर देश की सबसे बड़ी पौधारोपण अभियान शुरू की थी |

न्यूज़ीलैण्ड की प्रधानमंत्री राधाकृष्ण मंदिर क्यों गयी थी?

यह ड्राइव पाकिस्तान भर में चलाई गयी थी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीट कर एक दिन में 35 लाख से ऊपर पेड़ लगाना इस अभियान का लक्ष्य बताया था | यह पहल क्लाइमेट चेंज से लड़ने के थी | खान ने देश भर से तस्वीरें ट्वीट करते हुए लोगों को उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया था |

यही वायरल वीडियो जिसमें लोग पौधे उखाड़ रहे हैं और काला झंडा लहरा रहे हैं, कई सत्यापित ट्विटर हैंडल पर फ़र्ज़ी दावों के साथ शेयर किया गया है |

भारतीय जनता पार्टी के सदस्य और रिटायर्ड आर्मी मेजर सुरेंद्र पुनिया ने वीडियो ट्वीट कर दावा किया 'इमरान खान ने प्रधानमंत्री श्री मोदी की ट्री प्लांटेशन ड्राइव की नक़ल पाकिस्तान में की पर उनके फॉलोवर्स ने पेड़ उखाड़ दिए क्योंकि वो सोचते हैं की पौधारोपण इस्लाम के ख़िलाफ है' |

यही वीडियो तारेक फ़तेह ने भी एक भद्दे कैप्शन के साथ ट्वीट (आर्काइव) किया |

इनके अलावा ट्विटर पर यह वीडियो कई लोगों ने शेयर किया है | यहाँ और यहाँ देखें | इनके आर्काइव्ड वर्शन यहाँ, यहाँ और यहाँ देखें | फ़ेसबुक पर भी यह दावा इन्ही इस्लामोफ़ोबिक फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल है |

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वायरल वीडियो के कीफ़्रेम्स से एक रिवर्स इमेज सर्च किया और पाकिस्तानी वेबपोर्टल ख़बरनामा पर पहुंचे | इसपर वायरल वीडियो के स्क्रीनशॉट प्रकाशित थे एवं रिपोर्ट घटना को ख़ैबर बारा मंडी इलाके का बता रही थी |

इसके बाद हमनें ख़ैबर और ट्री प्लांटेशन ड्राइव जैसे शब्दों के साथ कीवर्ड्स सर्च किया और कई रिपोर्ट्स में हमें यही तस्वीरें मिली | पाकिस्तान टुडे में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार यह घटना 9 अगस्त की है जहाँ स्थानीय लोग प्लांटेशन ड्राइव का विरोध कर रहे थे क्योंकि ज़मीन विवादित थी |

रिपोर्ट के अनुसार, स्थानीय लोग प्रदर्शन इसलिए कर रहे थे क्योंकि स्थानीय एडमिनिस्ट्रेशन ने प्लांटेशन ड्राइव बिना इजाजत इस ज़मीन पर शुरू कर दी थी | डॉन में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार स्थानीय बुजुर्गों ने दावा किया की सरकार ने इस ज़मीन पर प्लांटेशन ड्राइव इसलिए शुरू की ताकि ज़मीन से उन्हें बेदखल कर सकें |

जिला शासन प्रबंधन के एक अधिकारी ने डॉन को बताया था कि ज़मीन को लेकर विवाद दो शक्तिशाली जनजातियों के बीच में था |


हमें ख़ैबर टीवी द्वारा किया गया एक वीडियो ट्वीट भी मिला जिसमें उर्दू में कैप्शन लिखा था | इसका हिंदी अनुवाद है, "ख़ैबर पख़्तूनख़्वा के बारा मंडी इलाके में एक बड़ी पौधारोपण विवाद खड़ा हो गया जब प्रदर्शनकारी पौधे उखाड़ने लगे | प्रदर्शनकारियों का दावा है कि ज़मीन विवादित है |"

यह वीडियो अलग कोण से लिया गया है |

घटना के बारे में जानने के लिए यहाँ पढ़ें |

Updated On: 2020-08-17T18:30:18+05:30
Claim Review :   वीडियो दिखाता है कि पाकिस्तान में मुस्लिम पौधे इसलिए उखाड़ रहे हैं क्योंकि पेड़ लगाना इस्लाम के ख़िलाफ़ है
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story