कोवीड-19 वार्ड बंद करते हुए जश्न मनाते मेडिकल स्टाफ़ का ये वीडियो इटली के एक शहर से है

जहां पोस्ट में ये दावा किया गया था की वायरल क्लिप नूज़ीलैण्ड से है, बूम ने पाया की ये दरअसल मटेरा, इटली का वीडियो है

सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है की नूज़ीलैण्ड में कोरोना वायरस से संक्रमित आखिरी मरीज़ के ठीक हो जाने के बाद से कोरोना वार्डस को बंद कर दिया गया है | हालाँकि ये बात सही है की कोरोना महामारी से निपटने में नूज़ीलैण्ड की कोशिशों की विश्वभर में काफ़ी सराहना हुई है, पर बूम ने ये पता लगाया की वायरल वीडियो नूज़ीलैण्ड का नहीं बल्कि इटली के मटेरा नामक शहर का है |

न्यूज़ीलैंड की कोरोनावायरस से निपटने की प्रणाली की सराहना हाल ही में सारी दुनिया में सुर्ख़ियों में रही है | इस पर और जानकारी पाने के लिए यहां क्लिक करें |

करीब 51 सेकंड लम्बे इस वायरल वीडियो को सोशल मीडिया पर काफ़ी शेयर्स मिलें हैं | इसमें आप हॉस्पिटल के स्टाफ़ को एक कतार में हेड स्कार्फ़ उतारते कर अपनी संतुष्टि और ख़ुशी ज़ाहिर करते देख सकते हैं | अंत में दो कर्मचारियों को वार्ड का दरवाज़ा बंद करते और बाकी खड़े स्टाफ़ को तालियां बजाते देखा जा सकता है | इस वायरल वीडियो के साथ लिखा कैप्शन कहता है: न्यूज़ीलैंड में आज आखिरी कोरोना मरीज़ के ठीक होने के बाद कोरोना वार्ड को बंद कर दिया गया। बस हिंदुस्तान में जल्द ऐसा हो जाये

वायरल पोस्ट को नीचे देखे और आर्काइव्ड वर्ज़न यहाँ देखिए |

इन्ही फ़र्ज़ी दावों के साथ हमें यह वीडियो कई फ़ेसबुक पेजेज़ पर शेयर किया हुआ मिला |


जी नहीं, ये लाशें चीन द्वारा समंदर में नहीं फेंकी गयी हैं


फ़ैक्ट चेक

वायरल वीडियो के की-फ़्रेम्स को अलग-अलग कर हमने एक फ़्रेम को रिवर्स इमेज सर्च किया तो फ़ेसबुक पर जून 5, 2020 को अपलोड किया गया एक वीडियो मिला | वीडियो के कैप्शन में इस्तेमाल की गयी भाषा और कॉमेंट्स से हमें लगा की ये वीडियो इटली का हो सकता है | इस पोस्ट का स्क्रीनशॉट नीचे देखें |


आजतक और इंडिया.कॉम ने 'फ़र्ज़ी' ट्वीट्स को सुशांत सिंह राजपूत के आखिरी ट्वीट्स बताए

इसी वीडियो के कैप्शन से आईडिया ले कर हमने "मतेरा", "अस्पताल", "कोरोना" जैसे शब्दों को कीवर्ड सर्च कर जून 10, 2020 को विज़िट इटली नामक सरकारी वेबसाइट के फ़ेसबुक पेज पर बिलकुल यही वीडियो अपलोड किया हुआ पाया | इस वीडियो के विवरण से हमें पता चला की यह घटना मतेरा में स्थित एक अस्पताल से है | इस पोस्ट को नीचे देखे |

बूम ने इन्ही शब्दों के साथ कीवर्ड सर्च किया तो हमारे सामने कई मीडिया रिपोर्ट्स आयें जिनके हवाले से हमें यह पता चला की यह वीडियो इटली के मदोना देले ग्राज़िया नामक अस्पताल का है | इस क्षेत्र में कोरोना वायरस से संक्रमित कोई नए केस दर्ज ना होने की वजह से अस्पताल के स्टाफ़ और डॉक्टरों ने इस तरह अपनी ख़ुशी ज़ाहिर की थी और कोरोना वार्ड के दरवाज़े बंद किये थे | इस वाकिये पर और जानकारी यहाँ पढ़े |


बूम ने अपनी जांच में यह भी पाया की इस लेख के लिखे जाने के वक़्त तक न्यूज़ीलैंड में 1,157 कोरोना पॉज़िटिव मामले दर्ज़ है जहाँ संक्रमण के कोई नए मामले सामने नहीं आए है, जोकि विश्व स्तर पर कोरोना से लड़ने की जंग में एक बेहतर आकड़ा प्रस्तुत करता है |

Claim Review :   वायरल पोस्ट दावा करता है की न्यूज़ीलैंड में कोरोना के केसेस ख़त्म होने पर अस्पताल का स्टाफ़ ख़ुशी मना रहा है
Claimed By :  Facebook posts
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story