के.इ.एम हॉस्पिटल मुंबई के कोविड-19 वार्ड का वीडियो दिल्ली बताकर वायरल

बूम ने पाया की वायरल वीडियो दिल्ली नहीं बल्कि मुंबई के किंग एड्वर्ड मेमोरीयल हॉस्पिटल का है

मुंबई के किंग एडवर्ड मेमोरियल हॉस्पिटल के कोविड - 19 वार्ड का एक वीडियो दिल्ली के किसी हॉस्पिटल का बता कर सोशल मीडिया पर काफ़ी शेयर किया जा रहा है |

ये वीडियो ऐसे समय पर वायरल हो रहा है जब दिल्ली में कोविड-19 केसेस में भारी मात्रा में इज़ाफ़ा हुआ है | पिछले कुछ दिनों में दिल्ली में कोरोना पॉज़िटिव पेशेंट्स की संख्या भारत में तीसरे स्थान पर पहुंच चुकी है | महाराष्ट्र में सबसे ज़्यादा कोरोना पॉज़िटिव केसेस मिले हैं |

नब्बे सेकंड लम्बे इस क्लिप में आप एक व्यक्ति को किसी हॉस्पिटल के वार्ड के अंदर मोबाइल पर वीडियो बनाते देख सकते हैं | वीडियो रिकॉर्ड कर रहे व्यक्ति से वार्ड का हाल बताते हुए एक महिला कहती है की यहां (वार्ड में) लाशें पड़ी हुई हैं | ऐसा कहते हुए वो काम से काम चार लाशों की तरफ़ इशारा भी करती है जो हॉस्पिटल बेड पर पड़ी हुई हैं | इस दौरान वीडियो में एक पेशेंट ज़मीन पर सोया हुआ भी नज़र आता है | वीडियो ख़त्म होने से ठीक पहले ये महिला रिकॉर्डिंग कर रहे युवक से कहती है 'बाहर जा कर इसे फ़ेसबुक पर अपलोड कर दो | के.ई.एम को टैग भी कर देना' |

इस वीडियो के साथ का कैप्शन कहता है "केजरवाल कुछ तो शर्म करो.......केजरवाल कुछ तो शर्म करो....... हद हो गई भाई। नहीं समलता तो बताओ राष्ट्रपति शासन लागू करने का अनुरोध करें"

पोस्ट देखने के लिए यहाँ और आर्कायव वर्ज़न के लिए यहाँ क्लिक करें।

आप यह वीडीयो नीचे देख सकते हैं।

क्या ये वायरल तस्वीरें उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग की हैं?

यही वीडियो इसके एक छोटे वर्ज़न के साथ ट्विटर पर भी काफ़ी शेयर किया गया है |


फ़ैक्ट चेक

बूम ने वीडियो को ध्यानसे देखा और पाया की वीडियो में दो बार के.इ.एम हॉस्पिटल का नाम लिया गया है |

पहली बार दस सेकंड के टाइम स्टाम्प पर रिकॉर्डिंग कर रहा व्यक्ति के.इ.एम हॉस्पिटल का नाम लेता है और दोबारा लगभग 1.23 के टाइम स्टाम्प पर एक महिला ये कहती हुई सुनी जा सकती है 'बाहर जा कर इसे फ़ेसबुक पर अपलोड कर दो | के.ई.एम को टैग कर देना' |

बूम ने इसके बाद के.इ.एम और कोविड-19 जैसे कीवर्ड्स के साथ फ़ेसबुक सर्च किया | हमें यही वीडियो इस दावे के साथ कई फ़ेसबुक पेजेज़ पर शेयर किये हुए मिले की ये के.इ.एम हॉस्पिटल मुंबई की है |

यही वीडियो हमें ज़ी हिंदुस्तान के यूट्यूब चैनल पर भी मई 27 को अपलोडेड मिला | इसके साथ कैप्शन था 'Mumbai के KEM hospital में corona के मरीजों के लिए bed नहीं, कैसे होगा इलाज? | COVID19 | महाराष्ट्र)

न्यूज़ रिपोर्ट के मुताबिक वीडियो एक कोरोना पॉज़िटिव पेशेंट की बेटी द्वारा मई 26, 2020 को बनाया गया था |

इस वीडियो को 27 मई 2020 को मराठी न्यूज़ चैनल Zee 24 तास ने अपनी रिपोर्टिंग में सम्मिलित किया था। इसका वीडियो आप नीचे देख सकते हैं।

इस वीडियो को भाजपा नेता राम क़दम ने भी 27 मई को ट्वीट किया था। ट्वीट में लिखा है "मुम्बई के KEM हॉस्पिटल के वार्ड 20A की है? ये वीडियो मंगलवार को बनाया गया है ? वीडियो में साफ दिख रहा है कि कोरोना मरीज को हॉस्पिटल की ज़मीन पर है, ? मरीज के आस पास के हर बिस्तर पर कोरोना से हुई मौत के बाद लाशों को रखा गया है? पूरे वार्ड में कचरा फैला हुआ है ? @OfficeofUT

जी नहीं, यह तस्वीर अयोध्या में पाए गए शिवलिंग की नहीं है

ठीक उसी दिन महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कदम के वीडियो को क्वोट-ट्वीट करते हुए बृहन्मुम्बई म्युनिसिपल कारपोरेशन द्वारा इस मुद्दे पर जारी की गयी सफ़ाई का स्क्रीन शॉट शेयर किया था |

बि.एम.सी के ने इस मुद्दे पर सफ़ाई देते हुए कहा था की वीडियो 26 मई को उस दिन रिकॉर्ड किया गया था जब के.इ.एम के कर्मचारी अचानक से स्ट्राइक पर चले गए थे | उन्होंने ये भी कहा की कर्मचारियों के काम पर वापस आते ही हालातों में सुधार हो गए थे |

बूम ने के.इ.एम हॉस्पिटल के डीन डॉक्टर हेमंत देशमुख से बात करने की भी कोशिश की | उनका जवाब मिलते ही हम आर्टिकल को अपडेट करेंगे |

Claim Review :   पोस्ट का दावा है की वीडियो दिल्ली के एक अस्पताल का है और केजरीवाल सरकार से कोविड-19 की स्थितियाँ सम्भाली नहीं जा रही हैं
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story