शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों के लिए 'फिक्स रेट' का दावा करने वाला पोस्टर फ़र्ज़ी है

बूम ने पाया कि वास्तविक बैनर पर एक सीएए विरोधी नारा लिखा था।

शाहीन बाग में सीएए के विरोध में हो रहे प्रदर्शन से संबंधित एक फ़र्ज़ी पोस्टर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस पोस्टर में दिखाया जा रहा है कि शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में भाग लेने वालों को रोजाना 500 रुपये रिश्वत दी जाती है।

तस्वीर में दिखाया गया है कि एक बंद दुकान के सामने महिलाओं और बच्चों का एक समूह खड़ा है। शटर के ऊपर एक बैनर लिखा हुआ देखा जा सकता है, जिस पर "फिक्स रेट 500 / दिन। 7 बजे से 12 बजे शाहीन बाग" लिखा हुआ है। बूम ने पाया कि ये टेक्स्ट एडिट करके जोड़ा गया है।

यह भी पढ़ें: क्या वीडियो से पता चलती है असम डिटेंशन सेंटर की क्रूरता?

फ़ेसबुक पर यह तस्वीर एक कैप्शन के साथ फैलाई जा रही है, जिस पर लिखा है, "शाम 7 से 12 बजे तक, हमारी निर्धारित दर 500 रुपये है, कोई मोलभाव नहीं, और इससे भी बड़ी बात ये है कि हम कुछ अतिरिक्त सेवाएं प्रदान करते हैं, मूल्य मांगी गई सेवाओं पर निर्भर करता है (अतिरिक्त सेवाओं को गलत न समझें, इनमें मोदी बच्चों द्वारा गाली देना और कविताएं गाना आदि शामिल हैं और मांग के अनुसार अन्य वांछित सेवाएं शामिल हैं।" )


दक्षिणी दिल्ली का एक इलाक़ा शाहीन बाग में सीएए, एनआरसी और एनपीआर के विरोध में महिलाएं और बच्चे एक अनूठे तरीके से प्रदर्शन कर रहे हैं। 15 दिसंबर, 2019 को नए नागरिकता कानून का विरोध कर रहे जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों पर दिल्ली पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई के बाद आंदोलन शुरू हुआ। ज्यादातर मुस्लिम महिलाओं द्वारा नेतृत्व में, यह सीएए के ख़िलाफ सबसे लंबे समय तक जारी विरोध है।

यह भी पढ़ें: सीएए विरोध के लिए बुर्का या हिजाब ड्रेस कोड वाला पोस्टर फ़ोटोशॉप्ड है

सत्यापन के लिए यह तस्वीर बूम के व्हाट्सएप्प हेल्पलाइन नंबर (7700906111) पर भेजी गई थी।


फ़ैक्ट चेक

बूम ने एक रिवर्स इमेज सर्च चलाया और पाया कि मूल छवि में ऐसा कोई टेक्स्ट नहीं था जिससे यह अनुमान लगाया जा सके कि प्रदर्शनकारियों को सीएए के प्रदर्शनों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए रिश्वत दी गई थी।

मूल तस्वीर में, बैनर में लिखा टेक्स्ट है, "CAA वापस लो NRC वापस लो।"

यह भी पढ़ें: क्या अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी ने सी.ए.ए पर की सरकार की आलोचना?

यह तस्वीर 7 जनवरी, 2020 को शाहीन बाग में चल रहे विरोध प्रदर्शन में ली गई थी। यह तस्वीर हफिंगटन पोस्ट इंडिया पर प्रकाशित हुई थी और मूल रूप से एएफपी के मनी शर्मा ने गेटी इमेज के लिए क्लिक किया था।


हाल ही में, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कई सत्यापित हैंडल, जिनमें भाजपा के सूचना और प्रौद्योगिकी के प्रभारी अमित मालवीय भी शामिल हैं, ने एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें दावा किया गया कि शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को प्रदर्शन के लिए राशि का भुगतान किया जाता है। बूम स्वतंत्र रूप से दावे का सत्यापन नहीं कर सका है।

Claim Review :   फिक्स रेट 500 / दिन। 7 बजे से 12 बजे शाहीन बाग
Claimed By :  Facebook and WhatsApp
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story