राहुल गांधी की मज़दूरों के साथ मुलाक़ात की तस्वीरें झूठे दावों के साथ वायरल

बूम ने पाया की दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमिटी के सदस्यों ने मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश तक पैदल जाते मज़दूरों के लिए गाड़ियों का प्रबंध किया था

सोशल मीडिया पर किए जा रहे दावे की पार्टी पूर्व-अध्यक्ष राहुल गाँधी से बात करने के लिए कांग्रेस पार्टी ने मज़दूरों के वेश में किराए के लोग बुलाये थे, फ़र्ज़ी हैं |

16 मई, 2020 को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दिल्ली के सुखदेव विहार फ़्लाइओवर के पास पैदल अपने घर जा रहे कुछ मज़दूरों से मिलकर बातें की । उनसे उनकी समस्याओं के बारे में जाना, उनकी पूरी मदद करने का आश्वासन दिया और उसके बाद पार्टी के कर्मचारियों ने इन मज़दूरों को उनके घर पहुँचाने के लिए गाड़ियों का प्रबंध किया। अब इसी घटना के दो फ़ोटो सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ वायरल किए जा रहे हैं की मज़दूरों के साथ गांधी की मीटिंग एक 'घोटाला' था ।

इस मुलाक़ात से ली गयी एक फ़ोटो में एक महिला गांधी की बातें सुनती नज़र आ रही है । दूसरे फ़ोटो में यही महिला गाड़ी में ऑलिव ग्रीन रंग की शर्ट पहने और काले रंग का मास्क लगाए एक दूसरे व्यक्ति के साथ बैठी दिखायी देती है। फ़र्ज़ी दावा यह कहता है कि गांधी की इस मीटिंग के लिए इस महिला को गाड़ी में लाया गया था।

इस महिला के दोनो तस्वीरों के एक सेट के साथ यह फ़र्ज़ी दावा वायरल किया जा रहा है की केवल एक 'फ़ोटो - ऑप' के लिए इन्हे मज़दूर बनाकर लाया गया था।

वायरल पोस्ट के साथ कैप्शन में लिखा है 'कांग्रेस का एक और #घोटाला...पप्पू से मिलने वाले मजदुर भी नकली निकले ...चमचों और किस हद तक गिरोगे'

नहीं, यह तस्वीर प्रियंका गांधी वाड्रा द्वारा प्रवासी मज़दूरों के लिए आयोजित बसों की नहीं है

पोस्ट नीचे देख सकते हैं और आर्कायव वर्ज़न के लिए यहाँ क्लिक करें।


यही दो फ़ोटो कई ट्विटर हैंडल और फ़ेसबुक पेज पर इसी फ़र्ज़ी कथन के साथ शेयर किए गए हैं।



फ़ैक्ट चेक

अपनी पड़ताल के सिलसिले में बूम ने कांग्रेस पार्टी के ट्विटर हैंडल पर इन तस्वीरों को ढूँढा | हमें 16 मई को उनके द्वारा ट्वीट किए तस्वीरों में स्कार्फ़ वाली महिला अन्य मज़दूरों के साथ दिखी |

चार अन्य तस्वीरों का समूह उत्तर प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने भी ट्वीट किए थे जिन में वायरल हुई दूसरी तस्वीर - अर्थात गाड़ी में बैठी हुई उस महिला का फ़ोटो भी शामिल है।

वायर एजेन्सी ए एन आइ ने भी चार तस्वीरों का एक सेट ट्वीट किया था जिसमें मज़दूर अपने घर जाने के लिए गाड़ियों में बैठे हुए थे। दूसरी तस्वीर में वायरल फ़ोटो वाली महिला भी दिखायी देती है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यह मज़दूर हरियाणा से पैदल उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के लिए निकले थे। राहुल गांधी ने इनसे कुछ समय तक बात की और फिर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमिटी से इन मज़दूरों को उनके घर तक छोड़ने के लिए गाड़ियों का प्रबंध करने को कहा।

पाकिस्तान का वीडियो हैदराबाद में सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन बताकर किया गया वायरल

इस घटना की कई वीडियो रिपोर्ट में भी वायरल फ़ोटो वाली महिला कांग्रेस कर्मचारियों द्वारा लायी गाड़ियों में बैठती हुई दिखायी देती है। इसका वीडियो आप नीचे देख सकते हैं।


Claim Review :  पोस्ट दावा करता है राहुल गांधी की मज़दूरों के साथ मुलाक़ात अभिनीत थी
Claimed By :  Social Media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story