क्या किसान आंदोलन के समर्थन में कनाडाई प्रधानमंत्री धरने पर बैठ गए हैं?

केंद्र सरकार के नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ जारी किसानों के प्रदर्शन पर सुरक्षाबलों की कार्यवाई पर कनाडाई प्रधानमंत्री ने सवाल उठाया था।

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की ओटावा में गुरुद्वारा साहिब की एक पांच साल पुरानी तस्वीर फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल है। दावा किया जा रहा है कि भारत में किसानों के विरोध प्रदर्शन के समर्थन में कनाडाई प्रधानमंत्री धरने पर बैठ गए हैं।

बूम ने पाया कि वायरल तस्वीर 11 नवंबर 2015 की है, जब जस्टिन ट्रूडो कनाडा के ओटावा में दीवाली के मौके पर गुरुद्वारा साहिब सिख सोसाइटी गए थे।

केंद्र सरकार के नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ जारी किसानों के प्रदर्शन पर सुरक्षाबलों के रवैये पर कनाडाई प्रधानमंत्री ने हाल ही में चिंता जताई थी और कहा था कि उनकी सरकार हमेशा से शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन की समर्थक रही है। जिसपर भारतीय विदेश मंत्रालय ने आपत्ति जताते हुए 'भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप' क़रार दिया दिया था। वायरल तस्वीर इसी पृष्ठभूमि में वायरल हो रही है।

दो साल पुराना 'निहंग' समूह का वीडियो फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल

वायरल तस्वीर के कैप्शन में लिखा है कि "'किसान' भाईयों के समर्थन में धरने पर बैठे 'कनाडा' के प्रधानमंत्री! इसको कहते हैं विदेश में डंका बजना! #Farmers protest"


पोस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें और आर्काइव वर्ज़न यहां देखें। अन्य पोस्ट यहां देखें।

पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

मैं यहीं हूँ यदि वो मेरी चोट देखना चाहते हैं: किसान जिसपर लाठीचार्ज हुआ

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वायरल तस्वीर रिवर्स इमेज पर सर्च किया तो तस्वीर के साथ प्रकाशित कई मीडिया रिपोर्ट्स मिलीं। हमने पाया कि भारत और कनाडा से जुड़े मुद्दों पर प्रकाशित रिपोर्टों में भारतीय न्यूज़ वेबसाइटों ने अधिकतर इसी तस्वीर का उपयोग किया है।

अंग्रेज़ी वेबसाइट द ट्रिब्यून में 12 नवंबर 2015 को "कनाडा के पीएम ट्रूडो ने ओटावा में मनाई दीवाली" शीर्षक के साथ प्रकाशित एक रिपोर्ट में इस तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है, जिसके कैप्शन में लिखा है, "कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो 11 नवंबर, 2015 को कनाडा के ओटावा में गुरुद्वारा साहिब ओटावा सिख सोसायटी में भाषण सुनते हुए।" तस्वीर का क्रेडिट रायटर्स को दिया गया है।


रिपोर्ट में कहा गया कि धर्मसभा को संबोधित करने से पहले, प्रधानमंत्री ने मंदिर और गुरुद्वारा में गुरबानी पाठ में भाग लिया। उन्होंने कहा कि दीवाली केवल भारतीय त्योहार नहीं बल्कि एक 'वैश्विक' त्योहार है।

हमने इस कैप्शन से हिंट लेते हुए कनाडाई प्रधानमंत्री के ओटावा स्थित गुरुद्वारा साहिब दौरे के संदर्भ में न्यूज़ रिपोर्ट खंगाली।

ओटावा सिटीज़न वेबसाइट में 11 नवंबर 2015 में "ट्रूडो ने दीवाली की शुरुआत का जश्न मनाने के लिए ओटावा सिख मंदिर का दौरा किया" शीर्षक के साथ रिपोर्ट में कहा गया है कि स्थानीय सिखों के एक दल ने बुधवार को ओटावा स्थित सिख मंदिर में प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो को रोशनी के त्योहार का जश्न मनाने के लिए बधाई दी। ट्रूडो ने एक संक्षिप्त भाषण दिया जिसमें उन्होंने कनाडाई विविधता पर प्रकाश डाला।

इसके अलावा हमने संबंधित कीवर्ड के साथ गूगल सर्च किया तो हमें यह तस्वीर ओटावा फ़ोटोग्राफी वेबसाइट में 'न्यूज़ और इवेंट्स' सेक्शन में मिली। तस्वीर के डिस्क्रिप्शन में लिखा है कि "कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो कनाडा के ओटावा में 11 नवंबर 2015 को गुरुद्वारा साहिब ओटावा सिख सोसाइटी में भाषण सुना।" तस्वीर लेने की तारीख़ 11 नवंबर 2015 बतायी गयी है और तस्वीर का क्रेडिट पैट्रिक डॉयल को दिया गया है।


हमें यह तस्वीर हिंदुस्तान टाइम्स पंजाब के 12 नवंबर 2015 के एक ट्वीट में भी मिली, जिसमें कहा गया कि कनाडाई प्रधानमंत्री ने दीवाली के मौके पर गुरुद्वारा का दौरा किया।

आम आदमी पार्टी का पुराना वीडियो किसान प्रदर्शन से जोड़कर वायरल

Claim Review :   किसान आंदोलन के समर्थन में धरने पर बैठे कनाडा के प्रधानमंत्री
Claimed By :  Social Media Users
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story