'नेशन विद नमो' ने शेयर किया मुहर्रम का पुराना वीडियो, बिहार में सीएए विरोध का दावा

नेशन विथ नमो नाम के फ़ेसबुक पेज ने मुहर्रम का पुराना वीडियो पोस्ट करते हुए दावा किया कि यह बिहार में सीएए के विरोध में हुई रैली का वीडियो है।

फ़ेसबुक पेज नेशन विथ नमो ने मुहर्रम के जुलूस का एक पुराना वीडियो पोस्ट किया| साथ ही दावा किया है कि यह नागरिकता संशोधन के विरोध में प्रदर्शनकारियों द्वारा बिहार में 'भयभीत करने वाली तलवार' रैली है।

1.4 मिलियन से अधिक फॉलोअर्स वाले पेज ने 2 मिनट -19-सेकंड की क्लिप को टेक्स्ट के साथ शेयर किया जिसमें दावा किया गया था, "बिहार में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने तलवार मार्च निकाला। क्या विपक्ष इसे भी सही ठहराएगा और बचाव करेगा?"

पोस्ट पर कई जवाब में बताया गया कि वीडियो मुहर्रम जुलूस था, लेकिन बावजूद इसके वीडियो कई घंटे बाद भी ऑनलाइन था। लेख लिखने के समय वीडियो को लगभग 26,000 बार देखा गया और पोस्ट को लगभग 1,600 बार शेयर किया गया था।

यह भी पढ़ें: 'हेट मी, बट डोंट हेट जर्मनी'? वायरल हिटलर का वीडियो भ्रामक है


देखने के लिए यहां और अर्काइव के लिए यहां क्लिक करें।

इसी क्लिप को ट्विटर पर कैप्शन के साथ शेयर किया गया था, जिसमें लिखा था "तलवार को शांतिपूर्ण उपकरण का लेबल देने के लिए विपक्षियों और उदारवादियों के इंतजार में! #Anticaarioters"



देखने के लिए यहां और अर्काइव के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें: क्या बीजेपी विधायक ने की राजनाथ सिंह से सी.ए.ए-एन.आर.सी वापसी की मांग?

नेशन विद नमो, फ़ेसबुक पर 'अबाउट' सेक्शन में खुद को पीएम नरेंद्र मोदी के न्यू इंडिया मूवमेंट में भागीदारी के लिए जागरूकता बढ़ाने और बढ़ावा देने के लिए एक 'अखिल भारतीय नागरिक मंच' के रूप वर्णन करता है। यह 2019 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को बढ़ावा देने में बेहद सक्रिय है।

फ़ैक्ट चेक

हमने वीडियो को कीफ़्रेम में तोड़ा और रूसी खोज इंजन यांडेक्स का इस्तेमाल करते हुए रिवर्स इमेज सर्च किया। यैंडेक्स के खोज परिणामों से पता चला कि यह मुहर्रम के जुलूस का एक पुराना वीडियो था।

बूम को 1 अक्टूबर, 2017 को अपलोड किया गया 2.19 मिनट का यूट्यूब वीडियो मिला, जिसमें वही दृश्य थे जो नेशन विद नमो के पेज में दिखाए गए हैं।

पेज पर पोस्ट किए गए वीडियो में छह सेकंड के टाइमस्टैम्प पर और यूट्यूब वीडियो में जुलूस में शामिल समान लोगों और बैकग्राउंड में समान संरचनाओं को देखा जा सकता है।


इसके अलावा, 1 मिनट के टाइमस्टैंप में दो वीडियो की तुलना करने पर, दोनों वीडियो में समान व्यक्ति की पहचान कर सकते हैं जो पुष्टि करता है कि यह पुराना वीडियो है और वर्तमान सीएए विरोध से संबंधित नहीं है।


हमें 2018 में यूट्यूब पर अपलोड किया गया वही वीडियो मिला, जिसमें लिखा गया था, "सारंगपुर मोहर्रम 2018" जो संकेत है कि वीडियो बिहार का हो सकता है। बूम वीडियो की उत्पत्ति की पहचान नहीं कर सका, हालांकि खोज परिणाम बताते हैं कि वीडियो बहुत पुराना हो सकता है।

Claim Review :  बिहार में सीएए के विरोध में हुई रैली का वीडियो
Claimed By :  Nation with NaMo Facebook page and Twitter
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story