गांजे में है कोरोनावायरस का इलाज ? जी नहीं, इस मीम को गलत दावों के साथ वायरल किया गया है

समाचार बुलेटिन का एक नकली स्क्रीन ग्रैब वायरल हो रहा है जिसमें दावा किया जा रहा है कि वैज्ञानिकों को कोरोनावायरस का उपाय गांजे में मिला है।

समाचार बुलेटिन की तरह दिखने वाले एक नकली स्क्रीनग्रैब को सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ वायरल किया जा रहा है कि गांजे के इस्तेमाल से घातक कोरोनावायरस को ख़त्म किया जा सकता है । स्क्रीन ग्रैब में सूखे गांजे की कली की तस्वीर के साथ एक टेक्स्ट है जिसमें लिखा है, 'ब्रेकिंग न्यूज - वीड से खत्म होता है कोरोनोवायरस।' नीचे एक सूचना टिकर दिया गया है जिसमें दावा किया गया है कि गांजे में रोगजनक का उपाय पाने से वैज्ञानिक हैरान हैं |

चीन के वुहान में कोरोनावायरस के प्रकोप की वजह से 900 से अधिक मौतें दर्ज की गई हैं। अब तक इस रोग से 40,500 लोगों के संक्रमित होने की सूचना है।

यह भी पढ़ें: फ़र्ज़ी: कोरोनावायरस के 20,000 मरीजो को मारने के लिए अदालत से मंजूरी चाहता है चीन

बूम को अपनी हेल्पलाइन पर यह स्क्रीनग्रैब मिला जिसमें इसके पीछे का सच जांचने का अनुरोध किया गया है |

पिछले कुछ हफ़्तों से व्हाट्सएप्प पर व्यापक रूप से शेयर किए जाने के बाद इस स्क्रीनग्रैब को अब ट्विटर पर शेयर किया जा रहा है और यह दावा किया जा रहा है कि यह विज्ञान के क्षेत्र में नई खोज है ।

फ़िल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने इसे 'जादू का पौधा' बताते हुए इसी स्क्रीनग्रैब के साथ ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने गांजे की बिक्री को वैध करने की अपील की है। अग्निहोत्री के ट्वीट का अर्काइव यहां है । नीचे ऐसे ही ट्वीट्स के स्क्रीनशॉट है।



यह ख़बर ऐसे समय वायरल हुआ है जब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने विश्वस्तर पर 2019 नोवेल कोरोनवायरस से जुड़े "इन्फोडेमिक" को रोकने की बात कही है। नए संक्रमण से संबंधित अफ़वाहें
और झूठ इंटरनेट पर बड़े पैमाने पर फ़ैल रहे हैं। अब तो तकनीकी कंपनियों ने भी प्रकोप से संबंधित ग़लत सूचनाओं को ख़ारिज करने के लिए प्रयास शुरू किए हैं।

यह भी पढ़ें: शी जिनपिंग की पुरानी तस्वीरों को ग़लत तरीके से कोरोनावायरस से जोड़ा जा रहा है

फ़ैक्ट चेक

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अब तक 2019-नोवेल कोरोनावायरल के इलाज़ के लिए कोई विशिष्ट उपचार उपलब्ध नहीं है। संक्रमित लोगों में दिखने वाले लक्षणों के लिए उपचार और सहायता प्राप्त की जा सकती है।

डब्ल्यूएचओ यह भी कहता है कि 'क्लीनिकल ​​परीक्षण चल रहे हैं, लेकिन इलाज का कोई उल्लेख नहीं है'।

डब्ल्यूएचओ की आधिकारिक वेबसाइट से एक प्रश्नोत्तर नोवेल कोरोनवायरस से संबंधित प्रश्नों को संबोधित करता है।

वेबसाइट पर लिखा है, "आज तक नोवेल कोरोनावायरस को रोकने या उसके इलाज के लिए कोई विशिष्ट दवा नहीं बताई गई है। हालांकि 2019-नोवेल कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों को लक्षणों से राहत और उपचार के लिए उचित देखभाल प्राप्त करनी चाहिए और गंभीर बीमारी वाले लोगों को अनुकूलित सहायक देखभाल प्राप्त करनी चाहिए। कुछ विशिष्ट उपचारों की जांच चल रही है और क्लीनिकल ​​परीक्षणों के माध्यम से इसका परीक्षण किया जाएगा। डब्ल्यूएचओ पार्टनर्स की मदद से कोरोनावायरस के इलाज के लिए दवाओं के विकास के प्रयासों के समन्वय में मदद कर रहा है।"

डब्ल्यूएचओ आगे बताता है कि पारंपरिक हर्बल चाय पीना, विटामिन सी लेना और खुद का इलाज खुद करना प्रभावी नहीं है।

यह भी पढ़ें: नहीं, चीनी पीएम ने कोरोनावायरस से बचने के लिए मस्जिद का दौरा नहीं किया

एक मीम जनरेटर के माध्यम से बना स्क्रीन ग्रैब

समाचार बुलेटिन जैसे दिखने वाले स्क्रीन ग्रैब पर एक रिवर्स इमेज सर्च के जरिये हम कई मीम पेजों तक पहुंचे जिसमें इस तस्वीर को "लोकप्रिय मीम" बताते हुए शामिल किया गया था । स्क्रीन ग्रैब को मीम बनाने वाली वेबसाइट में डेंक मीम और जीआईएफ सेक्शन के तहत सूचीबद्ध किया गया था।

हमने देखा कि मीम ने समाचार चैनलों के "ब्रेकिंग न्यूज़" फॉर्मेट का पालन किया है। कई ऑनलाइन मीम जनरेटर हैं जिनका इस्तेमाल इस फॉर्मेट में ऐसे मीम बनाने के लिए किया जा सकता है।

ऐसे जनरेटर, breakyourownnews.com का इस्तेमाल करते हुए हमने भी एक मीम बनाया।


Updated On: 2020-02-10T18:49:55+05:30
Claim Review :  तस्वीर में दावा किया गया है की गांजे में है कोरोनावायरस का इलाज
Claimed By :  Twitter: Vivek Agnihotri, WhatsApp
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story