नहीं, यह तस्वीरें पश्चिम बंगाल के तेलिनिपारा की नहीं बल्कि पाकिस्तान में हुई हिंसा की है

बूम ने जाँच करने पर पाया की यह तस्वीरें पाकिस्तान के सिंध की है जहाँ ज़मीन के विवाद को लेकर लोगों में मुठभेड़ हुई थी

पाकिस्तान में हुए ज़मीन से जुड़े झगडे की चार तस्वीरों का एक कोलाज सोशल मीडिया पर गलत तरीके से पश्चिम बंगाल के तेलिनिपारा में इस हफ़्ते हुए सांप्रदायिक मुठभेड़ से जोड़ा जा रहा है। इन तस्वीरों में एक व्यक्ति के सर से ख़ून बहता नज़र आ रहा है, बाक़ी दो तस्वीरों में लोग घरों में लगी आग को बुझाने का प्रयत्न करते दिखायी देते हैं। आख़री तस्वीर एक घायल महिला की है जो इस हिंसक घटना के बाद बिस्तर पर लेटी हुई है।

फ़ेसबुक पर वायरल पोस्ट्स का ऐसा दावा है कि घायल हुए लोग हिंदू हैं और मुसलमानों ने बंगाल में हिंदू बस्तियों को आग लगा दी है । 12 मई, 2020 को पश्चिम बंगाल के तेलिनिपारा इलाक़े में काफ़ी मुठभेड़ हुई जब पास के वर्दीबाज़ार के लोगों ने तेलिनिपारा में घुसने का प्रयत्न किया था । वर्दीबाज़ार में काफ़ी लोगों का कोरोना टेस्ट पॉज़िटिव आया है। एक रिपोर्ट के मुतबिक जब 10 लोग सुलभ शौचालय का उपयोग करने तेलिनिपारा की ओर जा रहे थे तब वहाँ के लोगों ने इसपर ऐतराज़ जताया जिसके कारण मुठभेड़ हो गयी।

वायरल पोस्ट के साथ एक कैप्शन है जो कहता है 'अगर आज आप बंगाल में हिन्दुओ पर होने वाले अत्याचार के खिलाफ आवाज नही उठा सकते हो तो समझ लेना यदि भविष्य में तुम पर होने वाले अत्याचार पर भी कोई आवाज नही उठाएगा! जल रहा है बंगाल, सो रही है ममता! मरता_हिन्दू_जलता_बंगाल'.

पोस्ट देखने के लिए यहाँ और आर्कायव के लिए यहाँ क्लिक करें |



फ़ेसबुक पर यह तस्वीरें काफ़ी बार शेयर हुई और लोगों ने इन्हें तेलिनिपारा की घटना की तस्वीरें समझा ।कई कैप्शंज़ में यह दावे भी किए गए हैं की इलाक़े में जलाए घर दलित हिंदुओं के थे।


इन तस्वीरों को बांगला में भी इन दावों के साथ शेयर किया गया है कि यह तस्वीरें तेलिनिपारा में हिंदुओं के ख़िलाफ़ हो रहे अत्याचार का सबूत है। एक ऐसा पोस्ट कहता है (हिंदी अनुवाद) "धोखेबाज़ों ने मासूम हिंदुओं के घर जला दिए और हिंदू माँ और बहनों का अपमान किया है। और बेगम ने हिंदुओं के जीने के अधिकार को समाप्त किया।"

(बांगला कैप्शन : হুগলীর তেলেনি পাড়ায় জিহাদীরা জ্বালিয়ে দিলো অবলা হিন্দুদের ঘরবাড়ি তার সঙ্গে চলছে হিন্দু মা বোনের ইজ্জত হরণের পালা আর বেগম কেড়ে নিয়েছে হিন্দুদের বাচার অধিকার, এরজন্য দায়ী একমাত্র হাওয়াইচটি)

पोस्ट देखने के लिए यहाँ और आर्काइव्ड वर्ज़न के लिए यहाँ क्लिक करें।


फ़ैक्ट चेक

बूम इस बात की पुष्टि कर पाया है की यह तस्वीरें पश्चिम बंगाल के तेलिनिपारा की नहीं है क्यूँकि वहाँ का भूखंड तस्वीरों में नज़र आते भूखंड से काफ़ी भिन्न है। रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें @voice_minority नाम का एक ट्विटर अकाउंट मिला जिसने एक घायल आदमी और औरत की तस्वीर ट्वीट की थी। इनको गुलाब एवं उसकी पत्नी के रूप में पहचाना गया था। रहीमयार खान, पंजाब,पाकिस्तान के इन दंपत्ति पर पड़ोस के गुंडों ने हमला किया था और गुलाब की पत्नी का यौन शोषण भी किया गया था । यह तस्वीरें 11 मई को ट्वीट की गयी थी।

12 मई को गल्फ़ न्यूज़ ने भी इस घटना को रिपोर्ट किया था किंतु घायल दंपति की पहचान वह नहीं कर पाए थे। इस आर्टिकल की हेड्लाइन थी (हिंदी अनुवाद) "पाकिस्तान : पंजाब के ग्रामीण इलाक़े में एक हिंदू दंपति पर हमला हुआ, कारण अभी तक अस्पष्ट" |

(English: Pakistan: Hindu couple in rural Punjab brutally attacked, reason unclear)

इसके अलावा हमें पाकिस्तान पंजाब पुलिस के ट्विटर हैंडल से किया एक ट्वीट का रिप्लाई मिला जिसमें लिखा था कि दंपति पर हमला संपत्ति विवाद के कारण हुआ था और यह सांप्रदायिक हमला नहीं था।


जलते घरों की तस्वीरें

हम दो पाकिस्तानी ट्विटर हैंडल्ज़ से जलते घरों की तस्वीरों का पता लगा पाए। इन ट्वीट्स के अनुसार सिंध के थरपारकर में हिंदुओं के घर जलाए गए थे।


बूम ख़ुद से इन जलते घरों की तस्वीरों को वेरिफ़ाई तो नहीं कर पाया किंतु इस बात की पुष्टि अवश्य कर पाया है की यह हूग़ली के तेलिनिपारा के नहीं हैं ।

Claim Review :  पोस्ट दावा करता है की पश्चिम बंगाल के तेलिनिपारा में हिंदुओं पर हमला हुआ।
Claimed By :  Facebook Posts
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story