यूपी पुलिस की मौजूदगी में पत्थरबाज़ी का वीडियो दिल्ली के संदर्भ में वायरल

यह वीडियो अभिनेत्री और कांग्रेस सदस्य नग़मा ने ट्विटर पर शेयर किया, जो तुरंत वायरल हो गया।

अभिनेत्री और कांग्रेस सदस्य नग़मा ने हाल ही में एक फुटेज शेयर किया है जिसमें पुलिस की मौजूदगी में नागरिकों के एक समूह को पथराव करते हुए देखा जा सकता है। फुटेज शेयर करते हुए उन्होंने दावा किया कि यह हाल ही में उत्तर पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा फैलाने के दौरान दिल्ली पुलिस की निष्क्रियता दर्शाता है। यह दावा झूठा है।

इस फुटेज उत्तर प्रदेश के फ़िरोज़ाबाद का है, जहां यूपी पुलिस ने दिसंबर 2019 में नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में एक कठोर कार्यवाही की थी।

वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा गया था, "क्या इसलिए #Delhigenocide #DelhiPolice nd 4wks ? किसी को लगता है.. कि दिल्ली पुलिस अपना काम कर रही है ..तो वो अपनी गलतफहमी इस वीडियो को देख कर दूर कर ले.....@IndiaToday @TimesNow Question the ones who r 2b questioned. Media do your job. @RahulGandhi @priyankagandhi।"

यह भी पढ़ें: दिल्ली के अशोक नगर कि मस्जिद में तोड़फोड़ और आगजनी कि घटना सच है


2 मिनट 14 सेकंड के फुटेज में, आप देख सकते थे कि नागरिक एक दिशा में पत्थर फेंक रहे थे, जबकि पुलिस चुपचाप पीछे खड़ी है। पुलिस द्वारा गोली चलाने पर, अंततः, नागरिकों का समूह आक्रोश में उस ओर बढ़ते हैं।

इस लेख को लिखने के समय पोस्ट को 3,500 से अधिक लोगों ने लाइक किया है और 3 घंटे से भी कम समय में लगभग 2,100 बार रीट्वीट किया गया है।

फ़ैक्टचेक

बूम ने वीडियो से कुछ कीफ़्रेम की रिवर्स इमेज खोज की और सोशल मीडिया पर कुछ पुराने पोस्ट तक पहुंचा जिनमें यह वीडियो शामिल था। 5 जनवरी, 2020 को दिलवर खान नामक यूज़र द्वारा एक पोस्ट के साथ दिए गए कैप्शन में दावा किया गया था की वीडियो को "फ़िरोज़ाबाद" में शूट किया गया था।

यह भी पढ़ें: बम धमाके में घायल सीरियन बच्चे की पुरानी तस्वीर दिल्ली दंगो से जोड़ कर वायरल हुई

इसे एक संकेत के रूप में लेते हुए, हमने 5 जनवरी, 2020 से पहले ऐसी घटना की ख़बरों की खोज के लिए एक कीवर्ड खोज की और और टाइम्स ऑफ इंडिया के एक लेख तक पहुंचे जिसमें उत्तर प्रदेश के फ़िरोज़ाबाद से सामने आए वीडियो के बारे में बताया गया था| जहां यूपी पुलिस ने 20 दिसंबर, 2019 को सीएए का समर्थन करने वाले नागरिकों की मदद से, सीएए के विरोध प्रदर्शनों की एक कठोर कार्यवाही की थी।


लेख में शामिल किए गए वीडियो में ठीक वही नज़ारा देखा जा सकता है जो नग़मा द्वारा शेयर किए गए फुटेज में है। इसलिए, वीडियो पुराना है और दिल्ली के हालिया दंगों से संबंधित नहीं है, जो 23 फ़रवरी, 2020 को शुरू हुआ था, जिसमें 40 से अधिक लोग मारे गए थे।

यह भी पढ़ें: क्या ताहिर हुसैन को आरोपी बनाने के लिए दिल्ली पुलिस ने दंगाईयों को उनके घर भेजा?


Claim Review :  वीडियो दर्शाता है की पत्थरबाज़ी दिल्ली में पुलिस की मौजूदगी में हुई थी
Claimed By :  Nagma
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story