कोरोनावायरस: फ्री मास्क का वादा करने वाला वायरल सन्देश फ़र्ज़ी है

बूम ने पाया कि मुफ़्त मास्क के लिए ऑनलाइन फॉर्म एक घोटाला था जिसके ज़रिए लोगों की जानकारी ली गई थी।

सरकार की नई योजना के तहत मुफ़्त मास्क बांटने का दावा करने वाला एक वायरल मैसेज फ़र्ज़ी है।

मैसेज में यूज़रों को एक संदिग्ध वेबसाइट पर व्यक्तिगत डेटा भरने के लिए कहा गया है और इसे कोविड 19 को नियंत्रित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मुफ़्त मास्क वितरित करने के लिए शुरू की गई एक नई योजना के रूप में शेयर किया जा रहा है।

मैसेज में कहा गया है, 'narendrmodiawasyojna.in' नामक वेबसाट पर उपलब्ध फॉर्म को भर कर कोई भी मुफ़्त मास्क का लाभ उठा सकता है।

यह भी पढ़ें: नहीं, ट्रम्प ने रोश द्वारा कोरोनावायरस वैक्सीन के लॉन्च की घोषणा नहीं की है

बूम को अपने व्हाट्सएप्प हेल्पलाइन नंबर (7700906111) पर यह मैसेज प्राप्त हुआ है जिसमें इसकी सत्यता के बारे में पूछताछ की गई है।


व्हाट्सएप्प मैसज के साथ दिए गए टेक्स्ट में लिखा गया है -

"करोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने सवच्छ भारत के अंतर्गत सभी भर्तीओ को करोना वायरस मुक्त माक्स फ्री में देने का फैसला किया है आप भी निचे लिंक पर क्लिक करके अपना फ्री माक्स ऑर्डर करके पहनिए और सवच्छ भारत का हिस्सा बनिए।"

फेसबुक पर वायरल

फेसबुक पर इस कैप्शन की खोज करने पर हमने पाया कि यह उस प्लेटफॉर्म पर वायरल है।


देखने के लिए यहां क्लिक करें


अर्काइव के लिए यहां देखें

फ़ैक्टचेक

इस मैसेज में दिए गए यूआरएल में कई लाल झंडे हैं जो इसके एक संदिग्ध वेबसाइट होने का इशारा करते हैं। साइट यूज़रों को अपना व्यक्तिगत विवरण जैसे नाम, फ़ोन नंबर, पता और पिन कोड दर्ज करने के लिए कहती है।

इसके अलावा, सरकारी वेबसाइटें '.gov.in' या '.nic' के साथ समाप्त होती हैं और स्वच्छ भारत अभियान के तहत मुफ़्त मास्क के वितरण पर सरकार द्वारा हाल ही में कोई घोषणा नहीं की गई है।


नीचे स्क्रॉल करने पर, यह उल्लेख किया गया है कि यह पेशकश सरकारी योजना के विपरीत, केवल 15 मार्च, 2020 तक ही मान्य है।

जबकि वेबसाइट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर शामिल है, उनके नाम की वर्तनी ग़लत है।


विवरण भरने के बाद, यूज़रों को 10 व्हाट्सएप्प समूहों को संदेश शेयर करने के लिए कहा जाता है जो व्यक्तिगत विवरण एकत्र करने के लिए धोखाधड़ी वेबसाइटों द्वारा उपयोग किए जाने वाले एक सामान्य प्रक्रिया है।

मैसेज में कहा गया है -

"स्वच्छ भारत अभियान में शामिल होने के लिए धन्यवाद, अपने फ्री मास्क को ऑर्डर करने और पार्टी को बढ़ावा देने के लिए, आपको नीचे दिए गए हरे बटन को दबाकर अपने 5 दोस्तों या समूह को यह भेजना होगा, और ऑर्डर बटन दबाएं, आपका मास्क आपके दिए गए पते पर 2 दिनों में पहुंचा दिया जाएगा। "


इसके नियम और गोपनीयता में साइट का दावा है कि यह एक शरारत है लेकिन कहा गया है कि इसे लोगों को और अधिक "वेब फ्रेंडली" बनाने के लिए भेजा जाना चाहिए।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि साइट डेटा एकत्र करने के पीछे क्या योजना है। यह फ़िशिंग साइटों द्वारा उपयोग की जाने वाली तकनीकों से मिलता जुलता है।

बूम ने पहले भी प्रसारित होने वाले ऐसे फर्ज़ी मैसेज के बारे में बताया है। यहां पढ़ें

18 मार्च, 2020 तक भारत में कोविड-19 के 150 सकारात्मक मामलों की पुष्टि करने के बैकग्राउंड में यह झूठे दावे के साथ मैसेज वायरल हुआ है। हाल के अपडेट के लिए बूम के लाइव ब्लॉग को फॉलो कर सकते हैं: कोरोनावायरस लाइव अपडेट

Updated On: 2020-04-02T17:03:06+05:30
Claim Review :   स्वच्छ भारत के अंतर्गत प्रधानमंत्री योजना में मुफ़्त फेस मास्क
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story