वायरल फ़ोटो में गुलनाज़ ख़ातून के लिए प्रदर्शन नहीं कर रहे तेजश्वी यादव

बूम ने पाया कि वायरल तस्वीर दरअसल 2018 में ली गयी थी जब तेजश्वी यादव एक व्यापारी के मर्डर के विरोध में हुए प्रदर्शन में हिस्सा ले रहे थे

दो साल पुरानी तेजश्वी यादव (Tejashwi Yadav) की एक तस्वीर जिसमें वे एक व्यापारी की हत्या के ख़िलाफ़ कैंडल मार्च (candle march) निकाल रहे हैं, फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल है | दावा है कि राष्ट्रीय जनता दाल (Rashtriya Janata Dal) के नेता ने यह रैली हाल में बिहार के वैशाली में हुई बीस वर्षीय लड़की की हत्या के बाद निकाली |

यह फ़ोटो तब वायरल है जब बिहार (Bihar) के वैशाली ज़िले के रसूलपुर हबीब गांव में 30 अक्टूबर, 2020, को एक बीस वर्षीय लड़की को ज़िंदा जलाया गया था | इस घटना को कथित तौर पर तीन लड़कों ने अंजाम दिया था जो उस लड़की का पीछा करते थे और धमकी देते थे | लड़की ने 15 नवंबर को आखिरी सांस ली जिसके बाद सोशल मीडिया पर उसके लिए न्याय को लेकर हंगामा मच गया और #JusticeForGulnaz ट्रेंड करने लगा जब परिवारजनों ने धरना दिया |

तीन आरोपियों में से एक गिरफ़्तार कर लिया गया है और दो अब भी फ़रार हैं, स्थानीय पुलिस ने बूम को बताया |

नहीं, तस्वीर में दिख रहा युवक बिहार के गुलनाज़ ख़ातून केस का आरोपी नहीं है

तेजश्वी की इस तस्वीर के साथ लिखा है: बिहार की बेटी गुलनाज़ के इंसाफ के लिए #Tejashwi #Yadav कैंडल मार्च के साथ सड़क पर उतर गए हैं। तेजस्वी भैया के आने से इस लड़ाई में मज़बूती मिलेगी और इंशा अल्लाह गुलनाज़ को इंसाफ मिलेगे। #JusticeforGulnaz

कुछ ऐसे ही पोस्ट्स नीचे देखें | और इनके आर्काइव्ड वर्शन यहां, यहां और यहां देखें |



तस्वीरें तेजश्वी यादव को 'सबसे युवा नेता' पुरस्कार जीतते नहीं दिखाती हैं

आईपीएल जीतने के बाद बुर्ज ख़लीफ़ा पर रोहित शर्मा की तस्वीर नहीं दिखाई गयी

फ़ैक्ट चेक

वायरल फ़ोटो को रिवर्स इमेज सर्च करने पर पता चला कि यह तस्वीर दिसंबर 2018 में ली गयी थी जब तेजश्वी यादव ने बिजनेसमैन गुंजन खेमका के क़त्ल के ख़िलाफ़ कैंडललाइट मार्च में भाग लिया था | इसपर कई न्यूज़ रिपोर्ट्स मौजूद हैं |

इस मार्च में राष्ट्रीय जनता दल के तेजश्वी यादव समेत कई नेता मौजूद थे जिन्होंने अन्य व्यापारियों के साथ पटना में 24 दिसंबर, 2018, को यह रैली निकाली थी, ज़ी न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक़ |

वायरल तस्वीर की ही तरह नीचे दिए गए रिपोर्ट के स्क्रीनशॉट में भी वही तस्वीर देख सकते हैं |


यादव ने भी इस प्रदर्शन रैली की तस्वीरें 2018 में ट्वीट की थीं | साथ ही साथ यादव ने बिहार के मुख्य मंत्री नितीश कुमार के नेतृत्व वाली जनता दल (संयुक्त) - भाजपा सरकार पर लॉ एंड आर्डर में कमी को लेकर विरोध जताया था |

बीएसएफ़ जवानों की बस पलटने की तस्वीरें फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल

Updated On: 2020-11-26T12:29:21+05:30
Claim Review :   गुलनाज़ ख़ातून के लिए तेजश्वी यादव ने निकली कैंडल मार्च
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story