हैदराबाद एनकाउंटर: समाचार चैनलों ने कैसे किया घटना को कवर

जबकि कुछ प्राइम टाइम शो ने बहस का एक संतुलित दृष्टिकोण प्रस्तुत किया, कुछ अन्य लोग एकतरफा और बिना दिशा के थे।

हैदराबाद पशुचिकित्षक डॉक्टर बलात्कार और हत्या के मामले में चार आरोपियों की एनकाउंटर की घटना ने देश भर में एक बहस शुरु कर दी है और यह बहस न केवल ऑफलाइन बल्कि ऑनलाइन और न्यूज़ टेलीविजन डिबेट शो में भी देखी जा सकती है।

हालांकि पुलिस द्वारा किए जा रहे दावों की पुष्टि होना अभी बाकि है, देश भर के कार्यकर्ताओं ने तेलंगाना पुलिस द्वारा किए गए एनकाउंटर की घटना को न्यायेतर हत्या बताया है। इसी बीच, टेलीविजन पर प्राइम टाइम डिबेट शो में मिश्रित प्रतिक्रियाएं देखी गईं। कुछ लोगों ने इसकी निंदा की जबकि कुछ ने कार्रवाई की सराहना की।

इस तरह के मजबूत ध्रुवीकरण के साथ, हमने यह देखने का फैसला किया कि 4 मुख्य समाचार चैनलों - रिपब्लिक टीवी, ज़ी न्यूज़, टाइम्स नाउ और एनडीटीवी पर प्राइम टाइम शो में इस मुद्दे को कैसे कवर किया है।

रिपब्लिक टीवी - द डिबेट

"मैं कानून की उचित प्रक्रिया पर ध्यान नहीं देता!"

"वे कहेंगे, फिर से अर्नब ने 'पत्रकारिता नैतिकता' को तोड़ दिया है। मैं उन पत्रकार नैतिकता पर ध्यान नहीं देता।"

"मुझे खुशी है कि वे (हैदराबाद बलात्कार के आरोपी) मुठभेड़ में मारे गए!"

"उदारवादियों, छद्म उदारवादियों को चुप रहना चाहिए!"

ये अर्नब गोस्वामी द्वारा रिपब्लिक टीवी पर अपना प्राइम टाइम शो शुरू करने के लिए इस्तेमाल किए गए कुछ वाक्यांश थे, जैसा कि बहस में भाग लेने के लिए 12 अन्य पैनलिस्टों के चेहरे स्क्रीन पर दिखाई दिए।

गोस्वामी द्वारा शुरू से ही कुछ कठोर नियम निर्धारित किए गए थे - मुठभेड़ पर सवाल उठाने वालों को बार-बार कहा गया था कि वे "गलत पक्ष" की तरफ थे, जबकि जिन लोगों ने इसे सही ठहराया, उनकी "सही पक्ष" की तरफ रहने के लिए सरहाना की गई और स्क्रीन के नीचे #HyderabadJustice हैशटैग फ्लैश किया गया।

जब टीआरएस नेता खलीकुर्रहमान को "प्रश्न प्रणाली" टैग के तहत बहस पर लाया गया था, तो थोड़ा भ्रम हुआ था। गोस्वामी ने पूछा था कि वह मुठभेड़ से "बहुत, बहुत खुश" क्यों नहीं थे। हालांकि, रहमान ने थोड़ी नाराजगी जाहिर की थी और उन्होंने बताया कि उन्हें गलत तरीके से "गलत पक्ष" के तहत रखा गया है क्योंकि उन्होंने न्यायेतर हत्याओं का पूरे दिल से समर्थन किया था। इस भ्रम के बाद, गोस्वामी को अपने पैनलिस्टों के बीच एक गिनती करनी पड़ी, ताकि यह बताया जा सके कि "गलत पक्ष" की तरफ कितने लोग थे।

मानवाधिकार के वकील तालीश रे ने हत्याओं की निंदा की और दावा किया कि वह महिला सुरक्षा के मुद्दे को समझती हैं, जिसके बाद गोस्वामी ने ऊंची आवाज में बताया कि "दिशा के साथ क्या हुआ था।"

महिला सुरक्षा की स्थिति के बारे में रे द्वारा न दोहराने के अनुरोध के बावजूद, एंकर ने उन्हें बीच में ही रोका और अपराध के भीषण विवरण को दोहराया। स्क्रीन पर दिखाई देने वाले 13 चेहरों में तनाव अधिक था।

शो में बलात्कारों और हत्याओं को रोकने के लिए निष्पादन की प्रभावशीलता के थोड़ी बहस हुई लेकिन गोस्वामी ने अपनी राय को स्पष्ट करते हुए कहा कि इस काम के लिए भारत को जश्न मनाना चाहिए |

ज़ी न्यूज - डेली न्यूज़ एनालिसिस

सुधीर चौधरी ने अपने प्राइम टाइम शो को थोड़ा प्रशंसात्मक उल्लेख के साथ शुरू किया - "हमारे धर्मग्रंथों में लिखा है कि एक बुरा इंसान जिसे मारने में मजा आता है उसे तुरंत मार देना चाहिए"। इस कथन ने उनके बाकि के शो का टोन सेट कर दिया, जैसा कि चौधरी ने अगले एक घंटे तक एनकाउंटर के इर्द-गिर्द के विवरणों की जांच करते हुए बताया कि यह क्यों जरूरी है।

चूंकि चौधरी इस शो के एकमात्र व्यक्ति थे, यह अन्य चैनलों की तुलना में शांत था। एंकर ने इस समय का उपयोग शांति से उन कारणों को सूचीबद्ध करने के लिए किया कि इस तरह की मुठभेड़ क्यों उचित है।

चौधरी ने हैदराबाद पुलिस के आधिकारिक बयान के साथ शुरू किया कि 4 आरोपियों पर गोलीबारी की गई क्योंकि उन्होंने अपराध स्थल के पुनर्निर्माण के दौरान भागने की कोशिश की थी। चौधरी के अनुसार, अगर ऐसा होता तो वे समाज के लिए खतरे का एक बड़ा स्रोत होते।

शो में आगे सिस्टम में खामियों पर चर्चा की गई, जो बलात्कारियों को जमानत दिलाने और पीड़ितों को और अधिक नुकसान पहुंचाने की अनुमति देता है, उद्हारण के लिए उन्नाव का हालिया मामला। चौधरी ने तर्क दिया कि लोगों के दिमाग से कानून का डर खत्म हो गया है और इस डर को बनाए रखने के लिए इस तरह के काम की जरुरत है।

अपनी बात रखने और भारतीय न्यायपालिका की थकाऊ प्रकृति को उजागर करने के लिए,चौधरी ने प्रति मामलों पर जजों की संख्या पर आंकड़े पेश किए।

जबकि चौधरी ने कुछ सही बिंदु उठाए, उनके मुद्दे का विश्लेषण एकतरफा था क्योंकि वह इस तर्क के दूसरे पक्ष में लाने में विफल रहे जो मुठभेड़ों के लिए महत्वपूर्ण है।

टाइम्स नाउ - द न्यूजऑर डिबेट

नविका कुमार के न्यूजऑर डिबेट पर पैनलिस्टों ने एक संतुलित बहस प्रस्तुत की - दोनों पक्षों के तर्क सुने गए।

चैनल द्वारा हैशटैग #CopsKillRapists चलाया गया था, जो उन 4 अभियुक्तों के लिए एक फैसले के रूप में सामने आया, जिन्होंने कभी मुकदमा नहीं देखा।

करुणा नंदी और शहजाद पूनावाला जैसे वकीलों ने बहस के दौरान मुकदमे की आवश्यकता पर जोर दिया, जिसका एक अन्य वकील सुबुही खान ने विरोध किया और कहा कि परिस्थितिजन्य सबूत हैदराबाद पुलिस के कार्यों को सही ठहराने के लिए पर्याप्त थे।

शो के दौरान, कुमार ने खुद इस तथ्य पर जोर देकर इस कार्य को उचित ठहराया कि इस मामले में जुनून अधिक है। उसने यह भी तर्क दिया कि बलात्कारियों पर कार्रवाई की कमी के कारण लोग ऐसे तरीकों का समर्थन करते हैं।


एनडीटीवी - लेफ्ट,राइट,सेंटर

निधि राजदान के प्राइम टाइम शो ने भी दर्शकों के लिए एक संतुलित बहस प्रस्तुत की, उन्होंने स्वयं उन घटनाओं के संबंध में, हैदराबाद पुलिस द्वारा किए गए दावों पर एक आलोचनात्मक दृष्टिकोण प्रस्तुत करके कड़ा रुख अपनाया।

शो में मानवाधिकार कार्यकर्ता वृंदा ग्रोवर और भाजपा कार्यकर्ता ममता काले के बीच एक-दूसरे के बयानों का कड़ा विरोध करते हुए तनाव अधिक था, हालांकि राजदान ने "इसे थोड़ा कम करने" का प्रयास किया।

उन्होंने आगे बताया कि बलात्कार का राजनीतिकरण किया जाना चाहिए, और मुठभेड़ के बाद देखा जाने वाला "रक्तपात" एक विचलित मिसाल कायम कर रहा था।

यह शो न्यायेतर हत्या भीड़ संस्कृति, न्यायपालिका में विश्वास की कमी और महिलाओं की सुरक्षा में कमी के कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को सामने लेकर लाया, हालांकि हैदराबाद पुलिस द्वारा कृत्यों पर सहमति अंत तक ध्रुवीकृत रही।

Show Full Article
Next Story