नहीं, श्रृंगेरी पीठ के शंकराचार्य ने राहुल गांधी को आशीर्वाद देने से नहीं किया मना

बूम ने अपनी जांच में पाया कि वायरल तस्वीर मार्च 2018 की है और उसके साथ किया गया दावा ग़लत है.

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर जिसमें राहुल गांधी के साथ एक संत दिख रहे हैं काफ़ी वायरल हो रही है. तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि श्रृंगेरी पीठ के जगदगुरु शंकराचार्य ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया को आशीर्वाद देने से मना कर दिया.

आगे लिखा है कि बैठक के समय जगदगुरु ने राहुल और सिद्धारमैया से कहा कि यदि आप हिंदू धर्म के प्रति असहिष्णुता रखते हैं, तो कृपया हिंदू धर्म से दूर ही रहें, बजाय इसके कि आप अपने कार्यों से हिंदू धर्म के अन्दर बैमनस्य पैदा करें. हिंदू मठ और मंदिरों ने क्या गलत किया है, जो मंदिरों का प्रबंध सरकार ने अपने हाथों में लिया है.

बूम ने अपनी जांच में पाया कि वायरल तस्वीर मार्च 2018 की है और उसके साथ किया गया दावा ग़लत है.

क्या बाइक पर बैठे राहुल गांधी की यह तस्वीर भारत जोड़ो यात्रा की है? फ़ैक्ट चेक

फ़ेसबुक पर एक यूज़र ने तस्वीर शेयर करते हुए लिखा,'श्रृंगेरी पीठ के जगदगुरु शंकराचार्य ने राहुल और सिद्धरमैय्या (कर्नाटक के मुख्यमंत्री) को आशीर्वाद देने से किया इनकार !*जगदगुरु ने कहा "आप मठ में आए हैं, धन्यवाद। लेकिन, आप जो कुछ कर रहे हैं, उसके बाद हम आपको आशीर्वाद तो नहीं दे सकते।'


फ़ेसबुक पर इस दावे के साथ ये तस्वीर काफी वायरल है जिसे यहाँ और यहाँ देखा जा सकता है.

फ़ैक्ट चेक

बूम ने सबसे पहले राहुल गांधी के श्रृंगेरी मठ के हालिया दौरे को लेकर रिपोर्ट्स खोजीं, लेकिन हमें इस सम्बन्ध में हालिया कोई रिपोर्ट नहीं मिली. लेकिन जब हमने देखा कि वायरल दावे में सिद्धारमैया को कर्नाटक का मुख्यमंत्री बताया गया है जबकि वर्तमान में कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई हैं. स्पष्ट हो गया कि वायरल पोस्ट पुरानी है हाल की नहीं.

इसके बाद बूम ने वायरल तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया तो कई सारी रिपोर्ट्स सामने आयी. बिज़नेस स्टैंडर्ड की 22 मार्च 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक़,'कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को कर्नाटक के चिकमगलूर दौरे के दौरान श्रृंगेरी मठ के जगद्गुरु शंकराचार्य के साथ मुलाक़ात की.'


कर्नाटक का स्थानीय पोर्टल मंगलोरियन न्यूज़ की 21 मार्च 2018 की रिपोर्ट के अनुसार राहुल गांधी ने श्रृंगेरी मठ पहुंचकर; देवी के दर्शन कर मठ प्रमुख जगदगुरु शंकराचार्य का आशीर्वाद लिया.


रिपोर्ट में आगे लिखा है कि राहुल के साथ मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, केपीसीसी अध्यक्ष डॉ जी परमेश्वर, राज्य प्रभारी सांसद के सी वेणुगोपाल, सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे, ऊर्जा मंत्री डी के शिवकुमार और अन्य नेता मौजूद थे.

21 मार्च 2018 को कर्नाटक कांग्रेस ने ट्वीट करते हुए बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चिक्कमगलुरु जिले के श्री श्रृंगेरी मठ के जगद्गुरु श्री श्री भारती तीर्थ महास्वामीजी से मुलाकात की और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया.

उपरोक्त तस्वीरों में हम स्वामी जगद्गुरु शंकराचार्य को आशीर्वाद देते हुए देख सकते हैं.

अगर जगद्गुरु द्वारा राहुल गांधी को आशीर्वाद के लिए इंकार किया गया होता तो जरूर ख़बर बनती. लेकिन इस सम्बद्ध में कोई रिपोर्ट नहीं मिली जो इस दावे की पुष्टि करती हो.

बूम को एक बिना तारीख़ के अख़बार की क्लिपिंग का एक स्क्रीनशॉट भी मिला, जिसमें मठ के प्रशासक ने इस दावे का खंडन किया कि राहुल गांधी और सिद्धारमैया को जगद्गुरू ने गुस्सा करते हुए आशीर्वाद देने इंकार कर दिया. मठ प्रशासक ने इस सम्बन्ध में पुलिस में शिकायत की बात भी कही.


एमपी के पोरसा के बुज़ुर्ग दम्पति की चार साल पुरानी तस्वीर फ़र्ज़ी दावे से वायरल

Show Full Article
Next Story
Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors.
Please consider supporting us by disabling your ad blocker. Please reload after ad blocker is disabled.