फ़िलिस्तीनी महिलाओं की ये वायरल तस्वीर कब की है?

हाल में इज़राइल और फ़िलिस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष से जोड़ कर कई पुरानी तस्वीरें भी शेयर की जा रही हैं. ये तस्वीर भी पुरानी है.

दो साल पुरानी फ़िलिस्तीनी महिलाओं (Palestinian women) की तीन तस्वीरें दोबारा से शेयर करके उन्हें हाल में चल रहे इज़राइल-फ़िलिस्तीन (Israel-Palestine conflict) घटनाओं से जोड़ा जा रहा है. वायरल तस्वीरों में दो महिलाएं प्रदर्शन करती नज़र आ रही हैं.

बूम ने पाया कि तीनों फ़ोटो इंटरनेट पर नवंबर 2019 से मौजूद हैं. इनका वर्तमान में इज़राइल और ग़ाज़ा पट्टी (Gaza Strip) में हुई भिड़ंत से कोई सम्बन्ध नहीं है.

पिछले करीब 11 दिनों से इज़राइल और फ़िलिस्तीन के लोगों के बीच टकराव चरम पर रहा है. इज़राइल और ग़ाज़ा पट्टी के बीच हवाई बमबारी हुई जिसमें कई लोगों की जाने गयी हैं. यह मामला इतना गरमा गया था कि संयुक्त राष्ट्र को बीच में आना पड़ा. हालांकि अब माहौल ठंडा होता नज़र आ रहा है क्योंकि दोनों पक्षों ने समझौते की और कदम बढ़ाया है. दोनों पक्षों ने ceasefire की ओर रज़ामंदी की है.

जानिए अल-अक्सा मस्जिद से जोड़कर वायरल दावे का सच

वायरल तस्वीर में दो महिलाएं हैं जिन्होंने मुँह पर कपडा बाँधा हुआ है. आसपास धुंए के मंजर में वो प्रदर्शन कर रही हैं. साथ ही कैप्शन में लिखा है: "क्या फलिस्तीनियो को नही पता ? इजराईल तकनीकी रुप से दुनिया का सबसे ताकतवर देश में से है, फिर भी वो मिसाइलो के सामने सीना तान कर खड़े है चाहे बच्चा हो औरत या मर्द हो ! पता है क्यों❓ क्योंकि उन्हे पता है इस पूरे कायनात में अल्लाह से बड़ी ताकत कोई नही, ये ज़मीं उसकी है☝️ #Palestine"

नीचे कुछ पोस्ट्स देखें और इनके आर्काइव्ड वर्शन यहां और यहां देखें.




इज़राइल ने अपने फ़ाइटर जेट पर लिखा 'सौम्या' संतोष का नाम?

फ़ैक्ट चेक

हमनें तीनों में से एक फ़ोटो को रिवर्स इमेज सर्च पर डाला और Sareeye नामक वेबसाइट पर तीनों तस्वीरों का वही कोलाज - जो अब वायरल है - प्रकाशित पाया.

वेबसाइट के मुताबिक़ यह लेख 17 नवंबर 2019 को प्रकाशित हुआ था. इससे साफ़ हो जाता है कि तस्वीरें कम से कम नवंबर 2019 से हैं.


इसके बाद आगे खोज करने पर हमें स्टॉक फ़ोटो वेबसाइट Anadolu Agency पर दोनों महिलाओं में से एक महिला की एक अन्य तस्वीर मिली. इस तस्वीर में उन्होंने वही कपडे पहने हैं जो वायरल फ़ोटो में नज़र आते हैं.

उनका बैग, स्कार्फ़ और शर्ट पर बना एडिडास का लोगो एकदम सामान हैं.


तस्वीर के साथ दिए हुए कैप्शन के मुताबिक़ महिला फ़िलिस्तानी है जो ग़ाज़ा पट्टी में इज़राइल सेना के हमले के विरोध में वेस्ट बैंक के रामल्लाह में 16 नवंबर 2019 को बैट एल चेकपॉइंट पर प्रदर्शन कर रही है. फ़ोटो: इस्साम रिमावि - Anadolu Agency.

Updated On: 2021-05-21T17:14:05+05:30
Claim :   तस्वीरें वर्तमान में फ़िलिस्तीन महिलाओं को इज़राइल के ख़िलाफ प्रदर्शन करता हुआ दिखाती हैं.
Claimed By :  Facebook posts
Fact Check :  Misleading
Show Full Article
Next Story
Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors.
Please consider supporting us by disabling your ad blocker. Please reload after ad blocker is disabled.