क्या ये तस्वीर मोदी को राजस्थान में पाकिस्तानी हिन्दू विस्थापितों से मिलते हुए दिखाती है?

दावा है कि यह तस्वीर 31 साल पुरानी है जब नरेंद्र मोदी राजस्थान के बाड़मेर में पाकिस्तान से आये विस्थापित हिंदुओं से मिलने उनके कैम्प में पहुँचे थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की लोगों से बात करते हुए एक ब्लैक एंड वाइट तस्वीर सोशल मीडिया पर फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल है. दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर 31 साल पुरानी है जब नरेंद्र मोदी राजस्थान के बाड़मेर में पाकिस्तान से आये विस्थापित हिंदुओं से मिलने उनके कैम्प में पहुँचे थे.

बूम को यह तस्वीर प्रधानमंत्री की वेबसाइट narendramodi.in पर मिली, जिसमें बताया गया था कि यह तस्वीर गुजरात में क्लिक की गई थी. वेबसाइट में कहा गया है कि मोदी को दक्षिण और मध्य गुजरात का प्रभार दिया गया था. इससे उन्हें हर तालुका और राज्य के लगभग हर गांव में जाने का मौका मिला था.

फ़ैक्ट चेक: पुलिस ने बोर्ड न हटाने पर मंदिर को खंडहर करने की धमकी नहीं दी

इस वायरल तस्वीर को अभिनेता और फ़िल्म एंड टेलेविज़न इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया (FTII) के पूर्व चेयरमैन गजेंद्र चौहान ने ट्वीट किया, जिसके कैप्शन में उन्होंने दावा किया कि "ये 31 वर्ष पुरानी दुर्लभ तस्वीर है, जब नरेंद्र मोदी बाड़मेर में पाकिस्तान से विस्थापित हिंदुओं से मिलने उनके कैम्प में पहुँचे थे. तब वो ना गुजरात के मुख्यमंत्री थे और ना ही देश के प्रधानमंत्री थे. दुख, मुशीबत मे लोगों के साथ खड़ा होना मोदी जी की फितरत में शामिल है।"

पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें.

पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें.

वायरल तस्वीर को इसी दावे के साथ फ़ेसबुक पर बड़ी तादाद में शेयर किया गया है.

बिहार में सभी स्कूलों को 15 जून तक बंद किये जाने का यह आदेश पत्र फ़र्ज़ी है

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वायरल तस्वीर को रिवर्स इमेज पर सर्च किया तो यह तस्वीर प्रधानमंत्री की वेबसाइट narendramodi.in की गैलरी में मिली.

वेबसाइट में बताया गया है कि नरेंद्र मोदी को दक्षिण और मध्य गुजरात का प्रभार दिया गया था. 1980 के दशक के दौरान उन्हें हर तालुका और राज्य के लगभग हर गांव में जाने का मौका मिला था. इस दौरान मोदी को लोगों की समस्याओं का हल करने का अवसर मिला.

इस वेबसाइट में स्पष्ट तौर पर इंगित किया गया है कि यह तस्वीर गुजरात के एक गांव की है.

बूम ने न्यूज़ रिपोर्ट्स भी खंगाली जिसमे ऐसे किसी वाकिये का ज़िक्र हो जिसमे मोदी ने मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री का पद संभालने से पहले बाड़मेर में हिंदू शरणार्थी शिविर का दौरा किया हो. हमें ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं मिली जिसमें इस दावे की वास्तविकता जानी जा सके. हालांकि, हमें 'मोदी ने पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थियों के समान अधिकारों का वादा किया' शीर्षक के तहत 'द हिंदू' में 12 अप्रैल 2014 को प्रकाशित एक लेख पाया.

उस समय, भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार मोदी ने बाड़मेर में एक रैली में कहा था कि पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थियों को अन्य भारतीयों के समान दर्जा दिया जायेगा..

फ़ैक्ट चेक: पुलिस ने बोर्ड न हटाने पर मंदिर को खंडहर करने की धमकी नहीं दी

Updated On: 2021-03-23T11:31:13+05:30
Claim Review :   नरेंद्र मोदी की 31 साल पुरानी तस्वीर जब वो बाड़मेर में पाकिस्तान से विस्थापित हिंदुओं से मिलने उनके कैम्प पहुँचे थे
Claimed By :  Social Media Users
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story