क्या सीतारमण ने कहा, "मैं प्याज़ नहीं खाती तो मुझे फर्क नहीं पड़ता"?

कई लोग इसे असंवेदनशील बता रहे हैं। प्याज़ की बढ़ती कीमतों के कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

सोशल मीडिया पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में उन्हें कहते हुए सुना जा सकता है कि वह ज्यादा प्याज नहीं खाती हैं और ऐसे परिवार से आती हैं जहां प्याज और लहसुन कोई मायने नहीं रखते। सीतारमण ने यह टिप्पणी बुधवार को लोकसभा में एक अन्य सांसद के साथ सवाल-जवाब के दौरान दी।

कई ट्विटर यूज़र्स ने उनके बयान को असंवेदनशील बताया, जैसा कि देश में प्याज़ की कीमत आसमान छू रही है जिससे किसानों और उपभोक्ताओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

20 सेकेंड के लंबी क्लिप में सीतारमण को कहते हुए सुना जा सकता है,"मैं इतना लहसन, प्याज नहीं खाती हूं जी, इसलिए चिंता ना करें, मैं ऐसे परिवार से आती हूं जहां अनियन, प्याज़ का मतलब नहीं रखते हैं ।"

आगे एक सांसद को यह चिल्ला कर कहते हुए सुना जा सकता है कि, "बहुत अधिक प्याज़ खाने से कैंसर होगा", जिसे वित्त मंत्री अनदेखा करती हैं और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की नेता सुप्रिया सुले का नाम लेती हैं, जिसके बाद यह क्लिप समाप्त हो जाती है।

सरकार की आलोचना करते हुए, राजनीतिक विश्लेषक गौरव पांधी ने ट्वीट किया, जिसका हिंदी अनुवाद है, "देश भर में प्याज की कीमतें आसमान छू रही हैं, गरीबों और मध्यम वर्ग का बुनियादी भोजन प्रभावित है और वित्त मंत्री की प्रतिक्रिया है:" मैं प्याज नहीं खाती, इसलिए मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता ", विरोधी लोग और असंवेदनशील सरकार! "

अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें।

बीबीसी इंडिया के डिजिटल एडिटर मिलिंद खांडेकर लिखते हैं, "प्याज़ पर वित्त मंत्री जी "मैं इतना लहसन,प्याज़ नहीं खाती हूँ जी So Don't worry मैं ऐसे परिवार से आती हूँ जहाँ onion प्याज़ मतलब नहीं रखते |"

न्यूज एक्स ने भी इससे संबंधित रिपोर्ट दिखाया है। रिपोर्ट के साथ हेडलाइन दी गई थी, जिसका हिंदी अनुवाद है, "वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का कहना है कि वह प्याज नहीं खाती हैं, इसलिए प्याज की कीमतों को लेकर कोई चिंता नहीं है।"


रिपोर्ट में आगे कहा गया है, "संसद में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि वह प्याज़ नहीं खाती हैं और इसीलिए प्याज़ की कीमतों से परेशान नहीं हैं।"

संसद में सीतारमण ने क्या कहा

वायरल टिप्पणी उस समय की गई थी जब देश में प्याज उत्पादन में गिरावट पर सुप्रिया सुले द्वारा उठाए गए एक सवाल का वित्त मंत्री सीतारमण जवाब देने जा रही थीं।

इससे पहले कि वह जवाब दे पाती, एक सांसद ने उनसे पूछा कि क्या उन्होंने मिस्र का प्याज खाया है, जैसा कि घरेलू आपूर्ति और कीमत नियंत्रण में सुधार के लिए केंद्र सरकार ने मिस्र से प्याज के आयात को मंजूरी दी है।

इसका खंडन करते हुए, वित्त मंत्री ने यह टिप्पणी की कि वह बहुत अधिक प्याज़ नहीं खाती हैं और ऐसे परिवार से आती है जहां प्याज़ इतना मायने नहीं रखता है। हालांकि, सीतारमण की टिप्पणी को अलग से देखा जाए तो असंवेदनशील लग सकती है, लेकिन दिए गए जवाब में उन्हें कहीं भी यह कहते हुए नहीं पाया जा सकता है कि, 'वह बढ़ती कीमतों के बारे में व्यक्तिगत रूप से चिंतित नहीं है क्योंकि वह एक उपभोक्ता नहीं है', जैसा कि संसद के बाहर उनकी टिप्पणी का मतलब निकाला जा रहा है।

टिप्पणी देने के बाद, उन्होंने सुप्रिया सुले को अपनी प्रतिक्रिया जारी रखी, जिसमें सरकार द्वारा निर्यात पर प्रतिबंध, स्टॉक सीमा लगाने, अधिशेष से घाटे वाले क्षेत्र तक प्याज़ का आयात और हस्तांतरण और कम उत्पादन के संबंध में सरकार द्वारा लिए गए कदम के बारे में बताया।

7.59.24 टाइमस्टैम्प से इसे सुना जा सकता है।

इस दौरान, सीतारमण ने एक ट्वीट से प्रतिक्रिया दी और कहा की उनका बयान ग़लत सन्दर्भ में लिया जा रहा है | वित्त मंत्री ने लोक सभा में उनके 4.52 मिनट लम्बे बयान का वीडियो भी अपलोड किया |

ट्रांस्क्रिप्ट

सुप्रिया सुले: मैं उस सब कुछ की सराहना करती हूं जो आप कह रही हैं, लेकिन मुद्रा लोन के बारे में बहुत कुछ कहा गया है, लेकिन विनम्रता के साथ मेरा यह सवाल है कि, हमारे द्वारा पहुंचाए गए डेटा के अनुसार लगभग 53% के लिए मुद्रा आपके द्वारा शुरू किया गया था, 53% ऋण एन.पी.ऐ (नॉन परफार्मिंग एसेट) में हैं जो 4 लाख करोड़ है, (व्यवधान) .. महिला सक्षम है, उसे बचाव की जरुरत नहीं है और जैसा कि आपने प्याज़ के बारे में बात की है तो मेरा आपसे छोटा सा सवाल यह है कि, मैं सराहना करती हूं कि आप मिस्र से प्याज प्राप्त करने में कामयाब रहे, मैं महाराष्ट्र से आती हूं जो प्याज़ का सबसे बड़ा पूल कलेक्टर है, ए) उत्पादन क्यों कम हो गया है? , बी) भारती पवार, वह यहीं बैठी हैं, वह नासिक का प्रतिनिधित्व करती हैं, इसलिए वह मेरे साथ सहमत होंगी, मैं इसे राजनैतिक नहीं बना रही हूं, लेकिन जब प्याज़ की कीमतें सबसे कम थी, आपके द्वारा दी गई अवधि का समय है, क्या यह कारण है, एमएसपी अच्छा नहीं था, इसलिए उन्हें सही नहीं प्राप्त हुआ। इसलिए उत्पादन कम हुआ है। मुझे एक भारतीय होने पर बहुत गर्व है, और एक भारतीय होने पर गर्व है जो हर भारतीय को खाना देता है, तो उत्पादन क्यों कम हो गया है। मैं मिस्र के प्याज खाने से खुश नहीं हूं, भारत को यह क्यों करना चाहिए, और हम चावल का निर्यात करते हैं, हम दूध का निर्यात करते हैं, बहुत सारे उत्पाद, हम दुनिया के दूसरे सबसे बड़े चावल उत्पादक हैं, और गेहूं भी उगाते हैं, हम ऐसा क्यों कर रहे हैं, क्या यह एक है प्रतिगामी कदम नहीं है? यदि मुद्रा ऋण के बारे में जो एनपीए है और प्याज़ के बारे में आप स्पष्ट कर पाएं क्योंकि प्याज़ उगाने वाला छोटा किसान है, प्याज़ का किसान 20 और 30 एकड़ का मालिक नहीं है, वह कम पानी वाला छोटा किसान है, इसलिए मेरा निवेदन है कि उसे वास्तव में संरक्षित करने की जरूरत है।

निर्मला सीतारमण: वास्तव में, मैं सहमत हूं

सांसद चिल्लाते हुए: आप इगिप्टीएन अनियन कहती हैं?

निर्मला सीतारमण: मैं ज़्यादा लहसन, प्याज नहीं खाती हूं जी, तो चिंता ना करें मैं ऐसे परिवार से आती हूँ जहां अनियन, प्याज का मतलब नहीं रखते हैं |

सांसद चिल्लाते हुए: बहुत ज्यादा प्याज खाने से कैंसर होगा

निर्मला सीतारमण: नहीं, माननीय सदस्य सुप्रिया जी, मैं यह कहना चाहूंगी, 2014 से मैं कुछ मंत्रियों के समूह का भी हिस्सा रही हूं जो प्याज़ के बाजार में उतार-चढ़ाव पर नज़र रखते हैं। कभी-कभी जब फसल का अधिशेष होता है,हमने उन लोगों को भी सहायता देकर सुविधा प्रदान की है जो इसे निर्यात करना चाहते हैं। मैंने इसे निर्यात करने के लिए 5 से 7 प्रतिशत सहायता के साथ रातोंरात आदेश पारित किए हैं।प्याज से संबंधित गंभीर संरचनात्मक समस्याएं हैं ...।

Updated On: 2019-12-05T17:17:50+05:30
Show Full Article
Next Story