योन शोषण के समाचार की एडिट की हुई न्यूज़पेपर क्लिपिंग सांप्रदायिक कोण के साथ हो रही वायरल

बूम ने पाया कि क्लिप की हैडलाइन को सफाई से एडिट किया गया है और शब्द ‘मैनेजर’ को ‘मौलवी’ से बदल दिया गया है
Uttar Pradesh-Madarsa-edited paper cutting

उत्तर प्रदेश के एक मदरसे के इस्लामिक धर्मगुरु द्वारा 52 लड़कियों के यौन शोषण का दावा करने के साथ एक न्यूजपेपर क्लिपिंग वायरल हो रहा है । दरअसल यह क्लिपिंग फ़ोटोशॉप्ड है।

इस लेख को लिखे जाने तक समाचार रिपोर्ट को 7,200 से अधिक बार ट्वीट किया जा चूका था जिसकी हेडलाइन में लिखा था, "मदरसे में यौन शोषण, मौलवी गिरफ़्तार 52 छात्राएं छुड़ाई गई।"

ऐसा ही ट्वीट @nationalist_Om, पत्रकार पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ के व्यंग्यपूर्ण हैंडल, ने टेक्स्ट के साथ ट्वीट किया गया था, जिसमें लिखा था, ‘मीडिया को चिन्मयानंद से फुरसत मिल गयी हो तो ये ख़बर भी बताने का कष्ट करें । एक नहीं, दो नहीं, पूरे 52 लड़कियों का मामला है वो 8 से 18 की उम्र की ।’



( ट्वीट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें। )

उत्तर प्रदेश के पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर एक लॉ की छात्रा ने बलात्कार और यौन हिंसा का आरोप लगाया है । घटना ने एक नया मोड़ तब लिया जब हाल में राजनीतिज्ञ द्वारा छात्रा के ख़िलाफ जबरन वसूली का आरोप लगाया गया जिसके चलते छात्रा को इस सप्ताह के शुरू में विशेष जांच दल द्वारा गिरफ़्तार किया गया था । एडिटेड न्यूज़पेपर क्लिप समान कैप्शन के साथ फ़ेसबुक पर भी वायरल है ।

FB viral  post on fake newspaper clipping
FB viral  post on fake newspaper clipping-1

फ़ैक्ट चेक

बूम ने पाया कि अख़बार में दिख रही हेडलाइन को फ़ोटोशॉप किया गया है | मौलवी 'शब्द’ का फॉन्ट बाक़ी शब्दों से अलग है जिसे हैडलाइन को गौर से देखने पर पाया जा सकता है |

Screenshot twitter

हमने यह भी देखा कि अख़बार क्लिपिंग के ऊपर से होकर गुजरने वाली एक काली लाइन वहां मौजूद नहीं थी जहां 'मौलवी' शब्द लिखा गया था ।

Twitter-fake headline-screenshot

लेख के अंश में कहा गया है कि यह घटना उत्तर प्रदेश के यासीनगंज में घटी, जहां छात्राओं को बचाया गया और एक महिला पुनर्वास केंद्र में भेज दिया गया ।

लेख के अंश से प्रासंगिक कीवर्ड का उपयोग करते हुए एक गूगल खोज से हम मूल समाचार रिपोर्ट तक पहुंचे जो दिसंबर, 2017 को अमर उजाला में प्रकाशित हुआ था । हिंदी में 'मैनेजर' शब्द को क्लिपंग में 'मौलवी' के साथ सावधानी से बदल दिया गया था ।

Amar Ujala screenshot
Fake-Amar Ujala screenshot

समाचार रिपोर्टों के अनुसार, उत्तर प्रदेश के यासीनगंज में एक मदरसे के प्रबंधक कारी तैय्यब ज़िया पर 5-24 वर्ष की आयु की 52 महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न और अत्याचार का आरोप लगने के बाद गिरफ़्तार कर लिया गया ।

मदरसे की कई छात्राओं को संस्थान में नजरबंद रखा गया और यौन उत्पीड़न किया गया । इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, महिलाओं द्वारा कथित तौर पर छत से कागज के टुकड़े फेंकने के बाद यह घटना सामने आई । सभी युवा लड़कियों और महिलाओं को बाद में बचा लिया गया और उन्हें कल्याणकारी घर भेज दिया गया । दूसरी ओर, ज़िया ने दावा किया कि उसे फंसाया गया था ।

Claim Review :  मीडिया को चिन्मयानंद से फुरसत मिल गयी हो तो ये खबर भी बताने का कष्ट करें।
Claimed By :  Facebook pages and Twitter handles
Fact Check :  FALSE
Next Story