क्या आरएसएस ने दिया था क्वीन एलिज़ाबेथ II को 'गार्ड ऑफ़ ऑनर' ? फैक्ट चेक !

सोशल मीडिया पर 'दो तस्वीरों' को सुपरइंपोज़ कर किया जा रहा है वायरल

दावा: सोशल मीडिया पर यह फोटो वायरल किया जा रहा है जिसमे कहा गया है की, "राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सैनिक क्वीन एलिज़ाबेथ को सलाम ठोक रहे हैं।"

सच्चाई: यह तस्वीर दरअसल दो तस्वीरो का कोलाज है जिसे फ़ोटोशॉप किया गया है। इस तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा है: 'तब आर.एस.एस वाले अंग्रेज़ो को सलाम ठोंकते थे।' दो अलग-अलग तस्वीरें सुपरइंपोज़ कर के सोशल मीडिया पर वायरल की जा रही हैं। हालांकि अपने आप में ये दोनों तस्वीरें असली हैं मगर इन्हे सुपरइंपोज़ कर के बनाया गया यह पोस्ट फ़ेक है | ।

बूम ने गूगल रिवर्स इमेज सर्च के सहारे इन दोनों तस्वीरों की असलियत पता लगाईं |

पहली फोटो राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कैडर ट्रेनिंग की है जो कुछ वर्ष पुरानी है।

दूसरी तस्वीर महारानी एलिजाबेथ II की है जो वर्ष 1956 में नाइजीरिया रेजिमेंट, रॉयल वेस्ट अफ्रीकन फ्रंटियर फोर्स के जवानों का निरीक्षण कर रहीं थी। इस तस्वीर की ज़्यादा जानकारी के लिए आप यहां देख सकते हैं।

फ़ेसबुक पर 'आई सपोर्ट रवीश कुमार। आई सपोर्ट ट्रुथ' नामक पेज पर इस पोस्ट 800 से ज़्यादा शेयर्स मिले हैं।

वर्ष 2016 में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता 'संजय निरुपम' ने भी इन तस्वीरों को ट्वीट किया था।

इस तस्वीर को ट्विटर पर कई और जगह भी ट्वीट किया गया है।

ज्ञात रहे की 'क्वीन एलिज़ाबेथ 2' वर्ष 1961 में भारत पहली बार आई थी।

Claim Review :  क्वीन एलिज़ाबेथ को सलाम ठोक रहे है क्या संघी
Claimed By :  facebook
Fact Check :  false
Next Story