क्या पंकजा मुंडे परली विधान सभा सीट से चुनाव हारने पर रो रहीं हैं? नहीं, वायरल दावे फ़र्ज़ी हैं

बूम ने पाया की टीवी9 को दिए गए इंटरव्यू में वो अपने भाई द्वारा किये गए भद्दी बातों पर अफ़सोस और घृणा जाता रही हैं
Pankaja-Munde-Fake-Claim

फ़ेसबुक पर एक तस्वीर वायरल हो रही है | यह तस्वीर असल में टीवी9 पर प्रकाशित एक इंटरव्यू के उस भाग का अंश है जब पंकजा मुंडे इस तरह के हाव-भाव चेहरे पर लाती हैं | तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा है: "महाराष्ट्र की महिला एवं बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे परली सीट पर एनसीपी के नेता और अपने भाई धनञ्जय पण्डितराओ मुंडे से 22,000 वोटों से हारने पर रो रहीं हैं | नरेंद्र मोदी और अमित शाह दोनों ने इनके लिए प्रचार किया था |"

आपको बता दें की यह दावा फ़र्ज़ी है | मुंडे रो नहीं रहीं थीं |

इन पोस्ट को नीचे देख सकते हैं और इनके आर्काइव्ड वर्शन यहाँ देखें |


कई मुख्य धारा के मीडिया संस्थान ने चलाई ग़लत ख़बर

द क्विंट की रिपोर्ट के अनुसार एन.डी.टीवी, आई.ए.एन.एस और ए.एन.आई न्यूज़ एजेंसिओं ने इस तस्वीर के साथ ग़लत दावे प्रकाशित किये जिसमें मुंडे के रोने की ख़बर थी | हालांकि इन संस्थाओं ने बाद में हैडिंग, ट्वीट्स, और अन्य बदलाव किये परन्तु हम इनके आर्काइव्ड वर्शन लेने में सफल थे |

इंडिया न्यूज़ जैसे कुछ संस्थान हैं जिन्होंने प्रकाशित वीडियो हटाए नहीं हैं | आप नीचे देख सकते हैं के एंकर, इंडिया न्यूज़ की इस बुलेटिन में दावे कर रहा है की मुंडे रोयीं थीं |



फ़ैक्ट चेक

बूम ने टीवी9 के वास्तविक इंटरव्यू की यूट्यूब पर खोज की और टीवी9 मराठी पर प्रकाशित एक वीडियो पाया | इस वीडियो में मुंडे समान कपड़ों में दिख रही हैं | यही नहीं, मुंडे 1 मिनट और 42 सेकंड के बिंदु पर जो चेहरे के हाव-भाव दिखाती हैं वो हूबहू वायरल तस्वीर के समान है |

इस इंटरव्यू में पंकजा मुंडे मराठी में बातें कर रहीं हैं | वो अपने भाई द्वारा हाल में खुद के बारे में की गयीं भद्दी बातों पर अफ़सोस जाता रहीं हैं और कह रही हैं: "मैंने जब वीडियो क्लिप देखा तो मुझपर गहरा प्रभाव पड़ा | वो घृणा और गुस्सा जो मैंने देखा, मुझे दुःख हुआ | इससे बहार निकलने में मुझे दो दिनों का वक़्त लगा | मुझे बाहर निकल कर लोगों से आँख मिलाने और बात करने में शर्म आ रही थी | मेरे आत्मविश्वास पर भी फर्क पड़ा |…"



इस 5 मिनट लम्बे इंटरव्यू में उन्होंने इस बारे में कुछ देर बात की है | यह 21 अक्टूबर 2019 को प्रकाशित हुए हैं | जिस दिन महाराष्ट्र में विधान सभा चुनाव हुए थे | यह दावे झूठ इसलिए भी हैं क्योंकि चुनाव परिणाम 24 अक्टूबर को आये थे |

बूम ने इसके अलावा फ़ेसबुक पर मुंडे का आधिकारिक पेज भी देखा | हमें एक वीडियो मिला जो इसी पोशाक में मुंडे ने फ़ेसबुक लाइव के दौरान दिया था |

हमनें पंकजा मुंडे के सहायक, गिरदे से संपर्क किया जिन्होंने कहा की पंकजा केवल उनके कज़िन भाई की बातों से आहात हुईं थी | चुनाव में हार के बाद रोने वाले दावे झूठे हैं |

हमें बीबीसी मराठी का भी एक इंटरव्यू मिला जो यूट्यूब पर प्रकाशित हुआ था | यह इंटरव्यू भी मुंडे ने समान पोशाक में दिया है और इसमें एक अलग कोण से उसी हाव-भाव में नज़र आती हैं |



Updated On: 2019-11-18T12:12:29+05:30
Claim Review :  पंकजा मुंडे अपने भाई से 22,000 वोटों से हारने पर रोयीं
Claimed By :  Facebook pages and Twitter handles
Fact Check :  FALSE
Show Full Article
Next Story