बंगाल में हुई टीएमसी-बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच की झड़प कश्मीर की घटना के रूप में वायरल

बूम ने पाया कि वीडियो जुलाई 2019 का है जब पश्चिम बंगाल के कोच बिहार में टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई थी
टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प

सड़क पर घरों में तोड़फोड़ करते कई लोगों को दिखाते हुए एक वीडियो झूठे दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि कश्मीर घाटी में मुस्लिम स्वामित्व वाली संपत्तियों पर हमला किया जा रहा है।

2.20 सेकेंड के वीडियो में उग्र भीड़ को दिखाया गया है - कुर्सियां और घरों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है और पीछे से पुलिस को मूकदर्शक बने हुए देखा जा सकता है।

पाकिस्तान की सत्तारूढ़ पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ (PTI) लाहौर विंग ने हैशटैग #ModiKillingKashmiris और #UnlockCurfewInashmir के साथ संयुक्त राष्ट्र को टैग करते हुए ट्विटर पर वीडियो शेयर किया था।



अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें।

फ़ेसबुक पर वायरल

वीडियो फ़ेसबुक पर यह दावा करते हुए फैलाया जा रहा है कि अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद से हिंदू राष्ट्रवादी सतर्कता समिति, मुस्लिम-स्वामित्व वाली संपत्तियों और व्यवसायों पर हमला कर रही है।

अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें।

अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें।

फ़ैक्ट चेक

यही वीडियो को पहले जुलाई 2019 में वायरल किया गया था, जिसमें झूठा दावा किया गया था कि यह घटना त्रिपुरा में हुई थी।

बूम बंगला ने दावे की जांच की और पता लगाया कि वीडियो पश्चिम बंगाल के कोच बिहार में पेटला क्षेत्र का है ।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, स्व-घोषित गौ-रक्षकों ने 27 जून, 2019 को भारत-बांग्लादेश सीमा के पास दिनहाटा के पेटला इलाके में गायों को ले जाने वाले एक ट्रक को रोका था ।

उन्होंने वाहन के दस्तावेजों को दिखाने के लिए चालक को कथित तौर पर परेशान किया ।

जब ट्रक चालक वाहन के दस्तावेज नहीं दिखा पाया, तो उसे बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कथित रूप से पीटा। स्थानीय टीएमसी कार्यकर्ताओं के हस्तक्षेप करने पर क्षेत्र में झड़पें हुईं। इसके बाद दोनों गुटों के बीच झड़प और जवाबी झड़पें हुईं।



एक स्थानीय समाचार आउटलेट, बर्दवान टीवी ने इस घटना को कवर किया था और फ़ेसबुक पर वीडियो अपलोड किया था।

बूम ने बर्दवान टीवी के एक पत्रकार से संपर्क किया, जिसने कहा, “टीएमसी और भाजपा पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई थी। यह जून के अंतिम सप्ताह में हुआ था।”

Claim Review :   कश्मीर घाटी में मुस्लिम स्वामित्व वाली संपत्तियों पर हमला किया जा रहा है
Claimed By :  Facebook Pages and Twitter Handles
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story