Connect with us

बोइंग 737 मैक्स 8 पर रोक: ये बातें जानना है महत्वपूर्ण

बोइंग 737 मैक्स 8 पर रोक: ये बातें जानना है महत्वपूर्ण

अक्टूबर के बाद से इस विमान की विश्व स्तर पर हुई दूसरी दुर्घटना के बाद भारत ने भी इन विमानों पर रोक लगाया है

बोइंग 737 मैक्स 8 पर प्रतिबंध लगाने वाले दुनिया भर के देशों के समूह में भारत भी शामिल हो गया है। मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन ने मंगलवार को ये घोषणा की है। यह प्रतिबंध 10 मार्च 2019 को इथोपियन एयरलाइंस के एक विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद लगाया गया है। इस दुर्घटना में विमान में सवार 157 लोगों की मौत हो गई थी।

एयरलाइन अदीस अबाबा (इथियोपिया) से नैरोबी (केन्या) तक बोइंग 737 मैक्स 8 का परिचालन कर रही थी और टेकऑफ़ के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इससे पहले पिछले साल अक्टूबर में लायन एयर द्वारा परिचालित एक ऐसा ही विमान इंडोनेशिया में दुर्घटनाग्रस्त हुआ था। इस तरह से छह महीने से भी कम समय में यह दूसरी ऐसी दुर्घटना है।

दुर्घटना के कारणों पर अधिक स्पष्टता आने तक भारत में प्रतिबंध लागू रहने की उम्मीद है।

प्रतिबंध के बारे में आपको कुछ चीजें जान लेना जरुरी है।

प्रतिबंध में क्या शामिल है?

डीसीजीए ने दो चरणों में अपने प्रतिबंध की घोषणा की है। 12 मार्च को डीसीजीए ने भारतीय वाहक से संबंधित सभी बोइंग 737 मैक्स 8 वेरिएंट पर रोक लगा दी, जैसा कि मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के माध्यम से बताया है।

लेकिन 13 मार्च को सुबह लगभग 10:30 बजे, डीसीजीए ने प्रतिबंध को एक कदम आगे बढ़ाया और 13 मार्च को शाम 4 बजे से किसी भी बोइंग 737 मैक्स 8 को भारतीय हवाई क्षेत्र में स्थानांतरित करने से रोक दिया। अंतरराष्ट्रीय उड़ान ऑपरेटरों को एक अस्थायी अंतर प्रदान करने के लिए कुछ घंटों का समय दिया गया था ताकि वे अपने गंतव्य तक पहुंच सके।

दुर्घटना पर डीजीसीए की प्रारंभिक प्रतिक्रिया उतनी चरम नहीं थी। 11 मार्च की सुबह, दुर्घटना के घंटों बाद, डीसीजीए ने तकनीकी दिशानिर्देशों का एक सेट जारी किया, जो भारत में ऑपरेटरों को अपने बोइंग 737 मैक्स 8 को काम में लाने के लिए पालन करना होगा।

यह एक प्रेस रीलीज के माध्यम से बताया गया था, जिसे यहां पढ़ा जा सकता है।

इस प्रतिबंध से भारत में दो एयरलाइनों के प्रभावित होने की आशंका है:
• स्पाइसजेट – 12 विमानों के साथ भारत में इस विमान के सबसे बड़े बेड़े का संचालन।
• जेट एयरवेज – इस संस्करण के 5 विमानों का संचालन।

इन प्रतिबंधों भारत में 100 उड़ानों और 17,000 यात्रियों के प्रभावित होने का अनुमान है।

स्पाइसजेट और जेट एयरवेज के शेयर की कीमतें बुधवार सुबह क्रमशः 6 प्रतिशत और 2 प्रतिशत गिर गईं लेकिन बाद में यह संभल गया और करीब 2 प्रतिशत तक नीचे गया।

इस बीच, इंडिगो का शेयर मूल्य बुधवार को 2 प्रतिशत अधिक बंद हुआ।

बोइंग 737 मैक्स एयरक्राफ्ट पर रोक लगाने में भारत यूरोपीय संघ, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, मलेशिया, यूएई, तुर्की और कुवैत के साथ शामिल हुआ है। पहली बार यह कार्रवाई चीन द्वारा की गई थी। (स्रोत: ब्लूमबर्ग)

इथियोपिया, ब्राजील, अर्जेंटीना और दक्षिण अफ्रीका जैसे कुछ देशों में, एयरलाइंस ने स्वयं इस विमान के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है।

संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा केवल दो प्रमुख देश हैं जो अब भी इन विमानों के उपयोग की अनुमति दे रहे हैं।

बोइंग 737 मैक्स एयर क्रैश: इथियोपियन एयरलाइंस और लायन एयर

इथियोपियाई एयरलाइन दुर्घटना के बाद विश्व के कई देशों ने बोइंग विमानों पर रोक लगाया है। लेकिन, इथियोपियाई एयरलाइन दुर्घटना 6 महीने में होने वाली दूसरी ऐसी दुर्घटना है।

बोइंग 737 मैक्स 8 की पहली दुर्घटना 28 अक्टूबर, 2018 को इंडोनेशिया में हुई, जब लायन एयर ने जकार्ता से पंगल पिनांग के लिए घरेलू मार्ग पर विमान का संचालन किया था। टेकऑफ के ठीक 12 मिनट बाद विमान जावा सागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिससे सभी 189 यात्रियों और चालक दल मारे गए थे।

इंडोनेशियाई परिवहन नियामक प्राधिकरण केएनकेटी की एक प्रारंभिक रिपोर्ट में पाया गया कि विमान में उड़ान संचालित होने से दो दिन पहले तकनीकी खराबी थी, लेकिन ग्राउंड पर इंजीनियरिंग कर्मचारियों द्वारा उड़ान भरने के लिए प्रमाणित किया गया था।

इथियोपिया में दुर्घटनाग्रस्त इथियोपियन एयरलाइंस की फ्लाइट का ब्लैक बॉक्स बरामद कर लिया गया है और फिलहाल उसकी जांच की जा रही है। इथियोपियन एयरलाइंस के सीईओ, टिवोल्डे गेबरमारीम ने सीएनएन को बताया कि पायलट ने “उड़ान नियंत्रण समस्याओं” की सूचना दी थी।

बोइंग का बयान

दुर्घटना के बाद, बोइंग ने एक बयान में अपनी सहानुभूति व्यक्त की। विमान निर्माता ने कहा कि यह इथियोपिया दुर्घटना जांच ब्यूरो और यूएस नेशनल ट्रांसपोर्टेशन सेफ्टी बोर्ड के निर्देशन में सहायता प्रदान करने के लिए दुर्घटना स्थल पर एक तकनीकी टीम भेजी जाएगी।

हालांकि, 12 मार्च को, बोइंग के एक अपडेटेड बयान में कहा गया कि संयुक्त राज्य अमेरिका के फेडरल एविएशन अथॉरिटी (एफएए) ने आगे कोई कार्रवाई करने का आदेश नहीं दिया, और इस प्रकार मैक्स 737 विमानों का उपयोग करने वाले ऑपरेटरों को कोई निर्देश या मार्गदर्शन जारी नहीं किया जाएगा।

नीचे दिए गए ट्वीट में बोइंग विमान पर एफएए के आधिकारिक बयान हैं। उन्होंने कहा है कि न तो उन्होंने कोई प्रणालीगत मुद्दे उठाए हैं और न ही उन्हें बोइंग विमान के ग्राउंडिंग की आवश्यकता के लिए विदेशी विमानन प्राधिकरणों से कोई डेटा मिला है। वे मामले को सक्रिय रूप से जब्त करते हैं और यदि आवश्यक हो तो कार्रवाई करेंगे।

बोइंग के शेयर भी इस हफ्ते वॉल स्ट्रीट पर कुछ खास नहीं रहे हैं।

(बूम अब सारे सोशल मीडिया मंचो पर उपलब्ध है | क्वालिटी फ़ैक्ट चेक्स जानने हेतु टेलीग्राम और व्हाट्सएप्प पर बूम के सदस्य बनें | आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुकपर भी फॉलो कर सकते हैं | )

Mohammed is a post-graduate in economics from the University of Mumbai, and enjoys working at the junction of data and policy. His specialisations include data analysis and political economy and he previously catered to the computational data analytical requirements of US-based pharmaceutical clients.

Click to comment

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

FACT FILE

Opinion

To Top