यह कश्मीर की वर्तमान स्थिति नहीं है, वीडियो के साथ दावे फ़र्ज़ी हैं

बूम ने पाया की यह घटना रोहतास, बिहार की है जहाँ भीड़ द्वारा इन महिलाओं को बच्चा चोर समझ लिया गया था

दो महीने पुराना एक वीडियो व्हाट्सएप्प पर फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल हो रहा है | इस वीडियो में दो महिलाओं को बेहरहमी से भीड़ द्वारा पीटा जा रहा है | दोनों महिलाएं कीचड़ में लतपथ हैं और रो रही हैं | छोड़ देने की गुज़ारिश भी कर रही हैं पर भीड़ में कुछ लोग उन्हें मरते रहते हैं | बाक़ी लोग तमाशा देखते रहते हैं |

वीडियो के साथ वॉइसओवर में एक शख़्स कह रहा है: "अस्सलामु अलैकुम प्यारे भाइयों क्या हाल चल है? यह एक वीडियो मेरे पास आयी है जो कश्मीर की है | किसी को यदि न भी पता हो न तो मैं बताता हूँ की यह वीडियो कश्मीर की है | कश्मीर में जो हो रहा है आप अपनी आँखों से देख रहे हो | रोज़ इस तरह की वीडियो हमारे पास आती हैं | हम रोज़ देखते है और दो मिनट परेशान होते हैं | इस बार हम इस वीडियो को मीडिया तक पहुचाएंगे और इमरान खान शाब तक भी जानी चाहिए |"

वॉइसओवर में किया गए यह दावे फ़र्ज़ी हैं | यह घटना बिहार में हुई थी जिसे झूठे तौर पर कश्मीर का बताया जा रहा है |

यह वीडियो बूम को अपने हेल्पलाइन नंबर (7700906111) पर प्राप्त हुई | हमसे इसकी सच्चाई के बारे में पूछा गया था |

केंद्रीय सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 के निरस्त करने के बाद कश्मीर घाटी में 72 दिनों तक मोबाइल और इंटरनेट सुविधाएं थप थी | हालांकि अब पोस्ट पेड मोबाइल सुविधाएं शुरू कर दी गयी है पर इंटरनेट और प्रीपेड मोबाइल सुविधाएं अब भी बंद हैं |

इसके चलते कश्मीर की वास्तविक स्थिति के बारे में जानना मुश्किल होगया है | कारवां मैगज़ीन और इकनोमिक एवं पोलिटिकल वीकली ने कुछ लेख लिखे हैं जिससे वास्तविकता कुछ हद तक मालुम होती है |

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वीडियो के एक कीफ्रेम को रिवर्स इमेज सर्च में डाला और पाया की घटना रोहतास, बिहार में हुई थी | इसी साल के अगस्त में हुई इस घटना में लोगों द्वारा दो महिलाओं को बेहरहमी से पीटा गया था |

समाचार लेखों के अनुसार, दो महिलाओं - संगीता देवी और बेबी देवी - को भीड़ ने एक टेम्पो के पास पकड़ लिया था | भीड़ को शक था की महिलाएं बच्चा चुराने आयी हैं |

यह अफवाह उत्तर भारत में फ़ैल रही है | इस अफ़वाह के चलते कई घटनाएं हुई हैं जहाँ बेक़सूर लोगों को पीटा या उत्पीड़ित किया गया है |

हमें दैनिक भास्कर द्वारा इस घटना पर लिखी गयी एक रिपोर्ट भी मिली | दैनिक भास्कर के अनुसार, "बिहार के रोहतास जिले के दावथ थाना क्षेत्र के मलियाबाग चौराहे पर गुरुवार शाम पांच बजे पटना से पहुंचीं दो महिलाओं को भीड़ ने सड़क पर घसीट-घसीटकर पीटा। दोनों महिलाओं संगीता देवी और बेबी देवी के ऊपर एनएच 30 के किनारे मौजूद एक दुकान के पीछे रिहायशी इलाके से तीन बच्चों को बहला फुसलाकर चोरी करने के प्रयास का आरोप था ।…"

दैनिक भास्कर का स्क्रीनशॉट

एक दूसरे अखबार, जागरण, द्वारा प्रकाशित एक लेख के अनुसार, "रोहतास। थाना क्षेत्र के मलियाबाग में शुक्रवार को बच्चा चोरी की अफवाह के चलते नासमझी में हिसक भीड़ के हत्थे दो महिलाएं चढ़ गई। दोनों महिलाएं पटना से गुप्ताधाम जा रही थी। रास्ता भटक कर मलियाबाग पहुंच गई और भीड़ के हत्थे चढ़ गई। यदि समय पर पुलिस नहीं पहुंची, तो शायद हिसक भीड़ उनकी जान ही ले लेती। पुलिस ने कड़ी मशक्कत कर किसी तरह उन्हें भीड़ की चंगुल से छुड़ा सीएचसी पहुंचाया। इस दौरान भीड़ में शामिल असामाजिक तत्वों ने पुलिस पर हमला कर दो पुलिस अधिकारियों को घायल कर दिया ।"

करीब 500 लोगों के ख़िलाफ एफ.आई.आर दर्ज़ की गयी थी, जैसा की समाचार लेखों में दिया गया है |

टीवी9 भारतवर्ष द्वारा भी इसपर एक वीडियो बुलेटिन यूट्यूब पर प्रकाशित किया गया था |



Updated On: 2019-11-18T12:12:29+05:30
Claim Review :  कश्मीर की वास्तविक स्थिति
Claimed By :  WhatsApp
Fact Check :  FALSE
Show Full Article
Next Story