क्या राहुल गांधी की मानसरोवर यात्रा की तस्वीरें गूगल से ली गई थीं?

राइट विंग समर्थकों का आरोप है कि राहुल गांधी ने मानसरोवर की तस्वीरें गूगल से ली हैं या खरीदी हैं। लेकिन कोई ठोस सबूत प्रदान नहीं करता है।
कांग्रेस अध्यक्ष, राहुल गांधी की कैलाश मानसरोवर यात्रा और विवादों का सिलससिला जारी है। उनके यात्रा शुरु करने से पहले ही भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें 'चायनीज गांधी' कहा और बाद में उन पर नेपाल में एक रेस्तरां में मांसाहारी भोजन खाने का आरोप लगाया। अब, बीजेपी महिला मोर्चा की सोशल मीडिया प्रभारी, प्रीति गांधी और विकास पांडे सहित, बीजेपी के आईटी सेल सदस्यों का दावा है कि गांधी ने यात्रा की गूगल तस्वीरें पोस्ट की हैं और वह मानसरोवर में नहीं हैं। 5 सितंबर, 2018 को गांधी द्वारा ट्वीट किए गए राक्षस ताल की तस्वीरों को बीजेपी ने अपने दावे का आधार बनाया है।
यह दिखाने के लिए कि तस्वीर गूगल से ली गई है, उन्होंने उसी दृष्टान्त का इस्तेमाल किया है।
दृष्टान्त से पता चलता है कि वह तस्वीर जो उन्होंने गूगल पर इंगित की है, घरेलू सर्ज इंजन, जस्ट डायल से है। तस्वीर पर क्लिक करने पर, हम जस्ट डायल सोशल पर निर्देशित किए जाते हैं, जहां वही तस्वीर है जो गांधी के 5 सितंबर के ट्वीट से की गई है। खोज को कम करने के लिए, हमने 'राक्षस ताल लेक जस्ट डायल' टाइप किया और साथ ही खोज को 4 सितंबर, 2018 तक, यानी गांधी के ट्वीट से एक दिन पहले तक सीमित किया। हमें यह जांचना था कि यह तस्वीर पहले मौजूद थी या नहीं। हालांकि, खोज का कोई परिणाम नहीं निकला है।
वही तस्वीर 5 सितंबर, 2018 के गांधी के इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी देखी जा सकती है।
दावों की आलोचना होने के बाद, विकास पांडे ने ट्विटर पर यह दावा किया कि गांधी की टीम ने अपने अकाउंट पर पोस्ट करने के लिए तस्वीरें खरीदी है। उन्होंने Earth Tripper नाम की एक वेबसाइट से तस्वीर साझा की और गांधी द्वारा साझा किए गए तस्वीर के साथ समानता का दावा किया। हालांकि, उन्होंने कांग्रेस सोशल मीडिया टीम द्वारा खरीदी गई तस्वीरों के अपने दावे के समर्थन में कोई निर्णायक सबूत नहीं दिया है।
दावा पार्टी की सोशल मीडिया सेना द्वारा आगे बढ़ाया गया था। पोस्टकार्ड के संस्थापक महेश विक्रम हेज ने भी ट्वीट किया था।
बूम ने कांग्रेस सोशल मीडिया टीम से हसीबा अमीन से बात की जिन्होंने आरोप को खारिज कर दिया। अमीन ने दावा किया कि यह तस्वीरें पार्टी की सोशल मीडिया टीम द्वारा नहीं बल्कि राहुल गांधी ने स्वंय ही ट्वीट किया है।
Show Full Article
Next Story